बांग्लादेश ने ऑक्सफ़ोर्ड-एस्ट्राज़ेनेका की वैक्सीन कोविशील्ड को मंज़ूरी दी

हाल ही में बांग्लादेश की सरकार ने ऑक्सफ़ोर्ड-एस्ट्राज़ेनेका की वैक्सीन कोविशील्ड को आपातकालीन  मंज़ूरी दे दी है। बांग्लादेश के Directorate General of Drug Administration (DGDA) ने Beximco Pharmaceuticals Ltd. (BPL) को वैक्सीन आयात करने की अनुमति दी है। इससे पहले BPL ने वैक्सीन के 30 मिलियन शॉट्स के लिए सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किये थे।

गौरतलब है कि इससे पहले भारत और यूनाइटेड किंगडम जैसे देशों ने भी ऑक्सफ़ोर्ड-एस्ट्राज़ेनेका की वैक्सीन को मंज़ूरी दी थी। इस वैक्सीन का नाम कोविशील्ड है, इसका विकास ऑक्सफ़ोर्ड और एस्ट्राज़ेनेका ने किया है। जबकि इसका उत्पादन भारत में सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया द्वारा किया जाता है।

ऑक्सफोर्ड वैक्सीन फाइजर वैक्सीन से बेहतर क्यों है?

ऑक्सफोर्ड वैक्सीन ने फाइजर वैक्सीन की तुलना में बेहतर प्रभावकारिता दिखाई है। ऑक्सफोर्ड वैक्सीन के विपरीत मॉडर्ना और फाइजर बायोएनटेक वैक्सीन का परिवहन -20 से -80 डिग्री सेल्सियस तापमान पर किया जाना चाहिए। जबकि ऑक्सफोर्ड के टीके सामान्य दो से आठ डिग्री सेल्सियस पर रेफ्रिजरेट किए जा सकते हैं।

फाइजर को अनिवार्य रूप से डिज़ाइन किए गए “थर्मल शिपर” में अपने टीके को अनिवार्य रूप से वितरित करना पड़ता है जो -80 डिग्री सेल्सियस को बनाए रखने के लिए शुष्क बर्फ का उपयोग करता है।

इसके अलावा, हाल ही में यह साबित हुआ कि ऑक्सफोर्ड वैक्सीन की आधी खुराक से उच्च सुरक्षा मिलने की संभावना है। इससे आम जनता के लिए अधिक खुराक उपलब्ध हो सकेगी।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments