ब्रह्मोस मिसाइलों के लिए रक्षा मंत्रालय ने BAPL के साथ अनुबंध किया

भारत सरकार ने ब्रह्मोस मिसाइलों की खरीद के लिए ब्रह्मोस एयरोस्पेस प्राइवेट लिमिटेड (BrahMos Aerospace Pvt Ltd) के साथ 1,700 करोड़ रुपये का अनुबंध किया है।

मुख्य बिंदु

  • रक्षा मंत्रालय द्वारा 35 लड़ाकू और 3 अभ्यास ब्रह्मोस सुपरसोनिक दोहरी भूमिका वाली सतह से सतह पर मार करने वाली क्रूज मिसाइलों की खरीद के लिए अनुबंध पर हस्ताक्षर किए गए थे।
  • इन मिसाइलों की मारक क्षमता 290 किमी है और ये जमीन पर हमला करने और जहाज रोधी दोनों हमले करने में सक्षम हैं।
  • इनकी गति 2.8 मैक है, जो ध्वनि की गति से लगभग तीन गुना अधिक है।
  • ये मिसाइलें भारतीय नौसेना के दो P-15B क्लास स्टेल्थ गाइडेड मिसाइल डिस्ट्रॉयर से लैस होंगी।
  • इससे भारत की नौसैनिक क्षमताओं में उल्लेखनीय वृद्धि होने की उम्मीद है।

ब्रह्मोस मिसाइल

ब्रह्मोस दुनिया की सबसे तेज सुपरसोनिक मिसाइल और सबसे तेज एंटी-शिप क्रूज मिसाइल है। इसे ब्रह्मोस एयरोस्पेस द्वारा विकसित किया गया था जो DRDO और रूस के NPO Mashinostroyeniya के बीच एक संयुक्त उद्यम है। इस मिसाइल का नाम भारत में ब्रह्मपुत्र नदी और रूस में मोस्कवा नदी के नाम पर रखा गया था। 2016 में, जब से भारत ने मिसाइल प्रौद्योगिकी नियंत्रण व्यवस्था (Missile Technology Control Regime – MTCR) में प्रवेश किया, भारत और रूस ने 400 किमी की सीमा के साथ ब्रह्मोस मिसाइलों की एक नई पीढ़ी विकसित करने और फिर इसे 600 किमी तक बढ़ाने का फैसला किया।

प्रोजेक्ट 15बी (Project 15B)

प्रोजेक्ट 15बी के तहत 29,643.74 करोड़ रुपए की लागत से चार स्टेल्थ गाइडेड मिसाइल डिस्ट्रॉयर का निर्माण किया जा रहा है। ये विध्वंसक कोलकाता श्रेणी के विध्वंसक के उन्नत संस्करण हैं। इन चार जहाजों का नाम भारत के चारों कोनों के प्रमुख शहरों के नाम पर रखा गया है। ये विशाखापत्तनम, मोरमुगाओ, इंफाल और सूरत हैं।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments