ब्रह्मोस मिसाइल निर्माण इकाई का उद्घाटन किया गया

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 26 दिसंबर, 2021 को लखनऊ में ब्रह्मोस एयरोस्पेस क्रूज मिसाइल निर्माण इकाई का उद्घाटन किया।

मुख्य बिंदु 

  • इस अवसर पर रक्षा मंत्री ने दोहराया कि रूस भारत का रणनीतिक साझेदार है।
  • उन्होंने भारत में बाहरी खतरों को रोकने के लिए भारत के परमाणु और अन्य सैन्य प्रतिरोधों का भी समर्थन किया।
  • उनके अनुसार, ब्रह्मोस मिसाइल परियोजना का उद्घाटन भारत और रूस के बीच रक्षा निर्माण सहयोग का प्रमाण था।

ब्रह्मोस मिसाइल (PJ-10)

ब्रह्मोस मिसाइल (BrahMos Missile) मध्यम दूरी की रैमजेट सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है। इसे जमीन, विमान, पनडुब्बी या जहाजों से लॉन्च किया जा सकता है। यह दुनिया भर में सबसे तेज सुपरसोनिक क्रूज मिसाइलों में से एक है। यह मिसाइल रूस के NPO Mashinostroyeniya और भारत के रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) के बीच एक संयुक्त उद्यम है। दोनों संगठनों ने मिलकर ब्रह्मोस एयरोस्पेस का गठन किया है। यह रूसी प्रदर्शन-800 ओनिक्स क्रूज मिसाइल पर आधारित है। ब्रह्मोस नाम दो नदियों के नाम से लिया गया है, भारत की ब्रह्मपुत्र नदी और रूस की मोस्कवा नदी।

ब्रह्मोस की विशेषताएं

ब्रह्मोस दुनिया की सबसे तेज एंटी-शिप क्रूज मिसाइल है, जो वर्तमान में परिचालन में है। इसके लैंड-लॉन्च और शिप-लॉन्च संस्करण पहले से ही सेवा में हैं। 2012 में, ब्रह्मोस का एयर-लॉन्च वर्जन पेश किया गया और इसे 2019 में सेवा में शामिल किया गया। वर्तमान में, ब्रह्मोस-द्वितीय नामक मिसाइल का एक हाइपरसोनिक संस्करण का विकास किया जा रहा है। इसकी गति मैक 7-8 है। इस मिसाइल के 2024 तक परीक्षण के लिए तैयार होने की संभावना है।

मिसाइल प्रौद्योगिकी नियंत्रण व्यवस्था (Missile Technology Control Regime – MTCR)

भारत 2016 में MTCR का सदस्य बना। इस साझेदारी के साथ, भारत और रूस 800 किमी से अधिक की रेंज वाली ब्रह्मोस मिसाइलों की एक नई पीढ़ी विकसित करने की योजना बना रहे हैं। इसमें सटीक सटीकता के साथ संरक्षित लक्ष्यों को हिट करने की क्षमता है।

ब्रह्मोस परियोजना का महत्व

ब्रह्मोस परियोजना से 5,500 नए रोजगार के अवसर पैदा होने की संभावना है। सहायक आपूर्ति श्रृंखला अतिरिक्त 10,000 रोजगार पैदा करेगी।

Categories:

Tags: , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments