भारतीय रुपये में रिकॉर्ड गिरावट दर्ज की गई

9 मई को भारतीय रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले अपने सर्वकालिक निचले स्तर पर गिर गया, जो 77.50 प्रति अमरीकी डालर पर बंद हुआ।

भारतीय रुपये का मूल्य क्यों गिर रहा है?

  • बढ़ती महंगाई को देखते हुए अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरों में बढ़ोतरी की है। इससे अमेरिकी डॉलर में मजबूती आई।
  • भारत से पूंजी का निरंतर बहिर्वाह (outflow) हो रहा है, जिसके कारण रुपये का मूल्यह्रास हुआ। NSDL के आंकड़ों से पता चला है कि 2022 में अब तक विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) ने 1.3 लाख करोड़ रुपये से अधिक की भारतीय इक्विटी बेची है। हाल ही में, भारत का विदेशी मुद्रा भंडार भी 600 अरब डॉलर से नीचे गिर गया।

भारतीय रुपये के मूल्यह्रास का क्या प्रभाव है?

  • भारतीय रुपये के मूल्यह्रास से निर्यात को बढ़ावा मिलेगा क्योंकि निर्यातकों को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले अपने विदेशी शिपमेंट के लिए बेहतर मूल्य मिलेगा।
  • आयात महंगा हो जाएगा। चूंकि भारत एक शुद्ध आयातक है, इसलिए रुपये में गिरावट से मुद्रास्फीति और खराब होगी। उदाहरण के लिए, भारत अपनी तेल आवश्यकताओं का लगभग 85% पूरा करने के लिए आयात पर निर्भर है। रुपया कमजोर हुआ तो ईंधन महंगा हो जाएगा।

किन सेक्टर्स को होगा फायदा?

सूचना प्रौद्योगिकी (IT), कृषि, कपड़ा और इंजीनियरिंग सामान जैसे क्षेत्रों को भारतीय रुपये में गिरावट से लाभ होगा, क्योंकि वे भारत से सबसे अधिक निर्यात किए जाते हैं।

हाल ही में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले कौन सी अन्य प्रमुख मुद्राएं कमजोर हुईं?

चीनी युआन और जापानी येन भी हाल ही में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले कमजोर हुए हैं।

रुपये के और मूल्यह्रास को नियंत्रित करने के लिए RBI क्या कर सकता है?

भारतीय रुपये के मूल्यह्रास को नियंत्रित करने के लिए, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) डॉलर बेच सकता है। भारतीय रुपये के मूल्य को प्रभावित करने के लिए RBI मौद्रिक नीति उपकरणों का भी उपयोग कर सकता है।

Categories:

Tags: , , ,

« »

Advertisement

Comments