भारतीय वैक्सीन COVAXIN कोरोनावायरस के डबल म्युटेंट स्ट्रेन को बेअसर करने में सक्षम : ICMR

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (Indian Council of Medical Research) ने हाल ही में घोषणा की कि COVAXIN COVID-19 के डबल म्युटेंट स्ट्रेन को बेअसर करता है।

मुख्य बिंदु

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (National Institute of Virology) ने हाल ही में ब्राजील संस्करण और यूके संस्करण के खिलाफ COVAXIN की क्षमता का प्रदर्शन किया। B.1.617 COVID-19 का हाल ही में फैलने वाला डबल म्युटेंट संस्करण है। यह E484Q के म्यूटेशन और L452R के म्यूटेशन को भी वहन करता है।

इसके अलावा, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के वैज्ञानिकों ने COVID -19 के सभी वेरिएंट को अलग किया है। इसमें ब्राजील संस्करण (B.1.1.28.2), यूके वेरिएंट (B.1.1.7) और दक्षिण अफ्रीकी वेरिएंट (B.1.351) शामिल हैं।

महत्व

1 मई, 2021 से शुरू होने वाले चरण 3 के टीकाकरण के साथ, यह जानना आवश्यक है कि क्या टीका तेजी से फैलने वाले म्यूटेंट के खिलाफ कुशल है।

वर्तमान परिदृश्य

  • भारत सरकार ने देश मेंचरण 3 के टीकाकरण में तेजी लाई है। ऐसा देश में टीकाकरण अभियान की गति बढ़ाने के लिए किया गया है। यह राज्य सरकारों को सीधे निर्माताओं से टीके खरीदने की अनुमति देकर किया जायेगा। टीका उत्पादन बढ़ाने के लिए COVID-19 वैक्सीन निर्माताओं को प्रोत्साहन प्रदान किया जायेगा।
  • देश में प्रतिदिन 29 लाख से अधिक वैक्सीन खुराक दी जा रही है।
  • हालाँकि, भारत में COVID-19 मामले व्यापक रूप से बढ़ रहे हैं।इससे देश में मेडिकल ऑक्सीजन की कमी हो गई है। इस कमी को संभालने के लिए, भारत 50,000 टन मेडिकल ऑक्सीजन का आयात कर रहा है। साथ ही, भारत ने PM CARES Fund की मदद से 162 ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने की योजना बनाई है।

COVAXIN

COVAXIN वैक्सीन इंडियन कौंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च के साथ भारत बायोटेक (Bharat Biotech) द्वारा निर्मित है। COVAXIN वैक्सीन को अन्य सभी टीकों के बीच चुना गया क्योंकि यह भारतीय जलवायु के लिए अत्यधिक उपयुक्त है। ऐसा इसलिए है क्योंकि COVAXIN को दो से आठ डिग्री सेल्सियस के तापमान पर स्टोर किया जा सकता है।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments