भारत-इथियोपिया: वीजा सुविधा और चमड़ा प्रौद्योगिकी पर समझौतों पर हस्ताक्षर किये गये

भारत और इथियोपिया ने 20 फरवरी, 2021 को दो समझौतों पर हस्ताक्षर किए। ये समझौते वीजा सुविधा और चमड़ा प्रौद्योगिकी से संबंधित हैं।

मुख्य बिंदु

  • इथियोपिया के उप-प्रधान मंत्री और विदेश मंत्री डेमेके मेकोनन हसेन और भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर की उपस्थिति में इन समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए।
  • इथियोपिया के उप-प्रधान मंत्री भारत की 4 दिवसीय यात्रा पर हैं।
  • दोनों देशों ने कई द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर उपयोगी और उत्पादक चर्चा की।
  • दोनों मंत्रियों ने अर्थव्यवस्था, रक्षा, डिजिटल और सांस्कृतिक सहयोग के संबंध में द्विपक्षीय एजेंडा का विस्तार करने पर भी सहमति व्यक्त की।

भारत-इथियोपिया संबंध

भारत और इथियोपिया के बीच द्विपक्षीय संबंध सभ्यता के संबंधों और सांस्कृतिक संबंधों पर आधारित हैं। दोनों देशों के बीच संबंध लगभग 2,000 वर्ष से भी पुराने हैं।

व्यापारिक सम्बन्ध

इथियोपिया में भारत शीर्ष विकास, व्यापार और निवेश साझेदार है। इथियोपिया के लिए भारत तीसरा सबसे महत्वपूर्ण व्यापारिक भागीदार भी है। इथियोपिया में सभी आयातों में 11% माल भारत द्वारा निर्यात किया जाता है जिसमें मुख्य रूप से प्राथमिक और अर्ध-तैयार लोहा और इस्पात उत्पाद शामिल हैं। भारत दवा और फार्मास्यूटिकल उत्पादों, मशीनरी और उपकरण, प्लास्टिक रसायन, धातु, परिवहन उपकरण और बिजली की सामग्री भी निर्यात करता है। जबकि, भारत कपास, दालों और मसालों का आयात करता है, जो सालाना 30 मिलियन अमेरिकी डॉलर तक होता है। 2018-19 में, दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार 1.28 बिलियन अमरीकी डॉलर था। इसमें से इथियोपिया को भारतीय निर्यात 1.23 बिलियन अमरीकी डॉलर और आयात 55.01 मिलियन अमरीकी डॉलर था।

अन्य सहयोग

इसके अलावा, इथियोपिया सभी अफ्रीकी देशों के बीच भारत द्वारा क्रेडिट की रियायती लाइनों का सबसे बड़ा प्राप्तकर्ता है। भारत इथियोपिया का दूसरा सबसे बड़ा विदेशी निवेशक भी है। भारतीय निवेश का लगभग 40% कृषि के क्षेत्र में किया जाता है। भारत शिक्षा, विज्ञान और प्रौद्योगिकी और रक्षा के क्षेत्र में भी एक प्रमुख भूमिका निभाता है।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments