भारत और अमेरिका ने स्वास्थ्य और जैव चिकित्सा विज्ञान में सहयोग के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया ने 28 सितंबर, 2021 को चौथी भारत-अमेरिका स्वास्थ्य वार्ता के समापन सत्र को संबोधित किया। इस सत्र की मेजबानी भारत ने की।

मुख्य बिंदु 

  • दो दिवसीय वार्ता में दोनों देशों के बीच स्वास्थ्य क्षेत्र में चल रहे कई सहयोगों पर विचार-विमर्श किया गया।
  • इस संवाद के दौरान, महामारी विज्ञान अनुसंधान और निगरानी को मजबूत करने, वैक्सीन विकास, जूनोटिक और वेक्टर जनित रोगों, स्वास्थ्य नीतियों और स्वास्थ्य प्रणालियों आदि से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की गई।
  • समापन सत्र में दोनों देशों ने दो समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए:
  1. स्वास्थ्य और जैव चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में सहयोग के संबंध में भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय और अमेरिका के स्वास्थ्य और मानव सेवा विभाग के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।
  2. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) और National Institute of Allergy & Infectious Diseases के बीच International Centre for Excellence in Research (ICER) पर सहयोग के लिए दूसरा समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।
  • वैश्विक साझेदार होने के नाते, भारत और अमेरिका को वैश्विक स्वास्थ्य संरचना में सुधार के लिए सहयोगात्मक रूप से काम करने की आवश्यकता है।
  • अन्य महत्वपूर्ण क्षेत्र जिनमें दोनों देश काम कर सकते हैं, उनमें शामिल हैं: स्वास्थ्य आपात स्थितियों का प्रबंधन; मानसिक स्वास्थ्य हस्तक्षेप; निदान, चिकित्सा विज्ञान और टीकों से संबंधित डिजिटल स्वास्थ्य और नवाचार  व अनुसंधान।

भारत-अमेरिका संबंध

भारत और अमेरिका के बीच संबंध बहुआयामी हो गए हैं और इसमें व्यापार, रक्षा और सुरक्षा, नागरिक परमाणु ऊर्जा, शिक्षा, स्वास्थ्य, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी और अनुप्रयोग और पर्यावरण जैसे क्षेत्रों में सहयोग शामिल है। दोनों देशों ने विभिन्न क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग को मजबूत करने के उद्देश्य से जुलाई 2009 में एक “रणनीतिक वार्ता” की स्थापना की थी।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments