भारत और जापान ने पेटेंट सत्यापन में सहयोग के लिए सहमती जताई

भारत और जापान अंतरराष्ट्रीय पेटेंट आवेदन के लिए “सक्षम अंतर्राष्ट्रीय खोज और अंतर्राष्ट्रीय प्रारंभिक परीक्षा प्राधिकरण (ISA / IPEA)” के रूप में सहयोग करने के लिए एक दूसरे के कार्यालयों को मान्यता देने के लिए सहमत हुए हैं।

मुख्य बिंदु

औद्योगिक संपत्ति पर सहयोग के ज्ञापन के तहत उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (DPIIT) और जापान पेटेंट कार्यालय (JPO) की चौथी समीक्षा बैठक के दौरान समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे। पहले चरण की बैठक की अध्यक्षता गुरुप्रसाद महापात्रा ने की, जो DPIIT के सचिव हैं,  और जापान की ओर  से इसमें तोशीहिदे कासुतानी ने हिस्सा लिया , जो JPO के आयुक्त हैं। इस बैठक के दौरान, पायलट Patent Prosecution Highway (PPH) कार्यक्रम के पहले वर्ष की समीक्षा की गई।

बैठक का एजेंडा

इस बैठक के दौरान, दोनों देशों ने भारत और जापान के बीच औद्योगिक संपत्ति पर सहयोग समझौते के तहत प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने भारत और JPO के कंट्रोलर जनरल ऑफ़ पेटेंट्स, डिज़ाइन्स एंड ट्रेडमार्क (CGPDTM) के बीच कार्य योजना की भी समीक्षा की। भविष्य के सहयोग के लिए दोनों देशों के बीच सहकारी संबंधों को गहरा करने के लिए अपने विचारों को भी साझा किया गया। उन्होंने आईपी प्रवर्तन को मजबूत करने, आईपी जागरूकता बढ़ाने, क्षमता निर्माण को बढ़ाने और नवाचार को प्रोत्साहित करने के महत्व को भी स्वीकार किया। दोनों देशों ने औद्योगिक डिजाइन शिक्षा के क्षेत्र में अपना सहयोग जारी रखने पर भी सहमति व्यक्त की।

जापान पेटेंट कार्यालय (Japan Patent Office – JPO)

JPO एक जापानी सरकारी एजेंसी है जो औद्योगिक संपत्ति के अधिकार मामलों की प्रभारी है। यह अर्थव्यवस्था, व्यापार और उद्योग मंत्रालय के तहत काम करता है। यह कार्यालय कासुमिगासेकी, चियोडा, टोक्यो में स्थित है। यह दुनिया के सबसे बड़े पेटेंट कार्यालय में से एक है। यह जापानी अर्थव्यवस्था और उद्योग के विकास को बढ़ावा देने के उद्देश्य से काम करता है। यह कार्यालय पेटेंट, डिजाइन, उपयोगिता मॉडल और ट्रेडमार्क से संबंधित कानूनों का प्रबंधन करता है।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments