भारत ने आपातकालीन उपयोग के लिए दो COVID-19 टीकों को मंजूरी दी

ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने हाल ही में भारत में सीमित आपातकालीन उपयोग के लिए दो COVID-19 टीकों को मंज़ूरी दी है। यह दो टीकें COVAXIN और COVISHIELD हैं।

COVAXIN क्या है?

COVAXIN भारत बायोटेक और ICMR (इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) द्वारा विकसित COVID-19 वैक्सीन है। यह देश में विकसित होने वाला पहला स्वदेशी COVID-19 वैक्सीन है।

COVISHIELD क्या है?

COVISHIELD वैक्सीन ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी और दवा कंपनी एस्ट्रा ज़ेनेका द्वारा विकसित की गई थी।

भारत में COVID-19 टीके

COVAXIN और COVSHIELD के अलावा भारत में अन्य COVID-19 टीके हैं:

  • ZyCoV-डी
  • स्पुतनिक वी
  • NVX-Cov 2373
  • Biological E Limited Vaccine
  • HGCO19

ZyCoV-D

ZyCoV-D एक कोविड-19 वैक्सीन है जिसे भारत में DCGI द्वारा अनुमोदित किया गया है। इस वैक्सीन को Zydus Cadila द्वारा विकसित किया गया है।

स्पुतनिक वी

स्पुतनिक वी एक रूसी टीका है जो भारत में चरण 2 और चरण 3 नैदानिक ​​परीक्षणों के तहत है। इसे रूस के गेमलेया संस्थान द्वारा विकसित किया गया था। इस वैक्सीन का क्लिनिकल परीक्षण भारत में डॉ. रेड्डीज लैब्स द्वारा किया जा रहा है। भारत सरकार ने स्पुतनिक वी वैक्सीन की 300 मिलियन खुराक बनाने की योजना बनाई है।

NVX-Cov 2373

NVX-Cov 2373 एक अमेरिकी कंपनी नोवावैक्स के सहयोग से भारत के सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा विकसित एक कोविड-19 वैक्सीन है। इस वैक्सीन के तीसरे चरण का परीक्षण किया जा रहा है।

Biological E Limited Vaccine

Biological E Limited Vaccine का भारत में बड़े पैमाने पर परीक्षण शुरू किया जायेगा। कंपनी ने भारत में अपने वैक्सीन के शुरुआती और मध्य चरण के मानव परीक्षण शुरू कर दिए हैं। इस वैक्सीन का विकास  ह्यूस्टन  बेस्ड डायनावैक्स टेक्नोलॉजीज और बायलर कॉलेज ऑफ मेडिसिन द्वारा किया जा रहा है।

HGC019

यह पुणे बेस्ड जेनोवा बायोफार्मास्यूटिकल्स द्वारा विकसित एक mRNA वैक्सीन कैंडिडेट है। यह वैक्सीन Ind-CEPI मिशन द्वारा समर्थित है। जेनोवा जनवरी 2021 में वैक्सीन के चरण 1 नैदानिक ​​परीक्षण शुरू करेगा।

Categories:

Tags: , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments