भारत बना रहा है पावर आइलैंडिंग सिस्टम (Power Islanding Systems)

देश के बिजली ग्रिड पर संभावित हमलों से महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे की रक्षा के लिए देश के कई शहरों में पावर आइलैंडिंग सिस्टम बनाने की योजना बनाई जा रही है।

मुख्य बिंदु

  • बेंगलुरू और जामनगर, जिसमें भारत की दो सबसे बड़ी तेल रिफाइनरियां हैं, उन शहरों में शामिल किये गये हैं जिनका मूल्यांकन एक आइलैंडिंग सिस्टम के लिए किया जा रहा है।
  • मौजूदा सिस्टम वाले मुंबई और नई दिल्ली जैसे शहरों में सुधार किया जा रहा है।
  • वर्ष 2020 में मुंबई में एक बड़ी बिजली आउटेज हुई थी, जिससे शहर ठप हो गया और इसने शहरों के पावर ग्रिड पर साइबर हमले की अटकलों को प्रेरित किया।
  • 2019 में, भारत में परमाणु ऊर्जा एजेंसी ने बताया कि इसके एक पीढ़ी के संयंत्र में कंप्यूटर सिस्टम पर मैलवेयर द्वारा हमला किया गया था।
  • दुनिया भर में बिजली ग्रिडों को लगातार डिजिटल किया जा रहा है जिससे वे ऐसे संभावित हमलों के प्रति संवेदनशील हो जाते हैं।इसलिए, भारत सरकार देश के प्रमुख शहरों में पावर आइलैंड सिस्टम बनाने की योजना बना रही है।

आइलैंडिंग सिस्टम क्या है?

आइलैंडिंग सिस्टम में उत्पादन क्षमता होती है और यह एक आउटेज के दौरान मुख्य ग्रिड से ऑटोमेटिकली अलग हो सकता है। नई प्रणालियों को स्थापित करने के लिए, प्रांतों को भंडारण और उत्पादन क्षमता स्थापित करने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत करने की आवश्यकता है।

इंडिया स्मार्ट ग्रिड फोरम के अध्यक्ष रेजी पिल्लई (Reji Pillai) ने औद्योगिक और वाणिज्यिक परिसरों, हवाई अड्डों, शॉपिंग मॉल, अस्पतालों, रक्षा इकाइयों और रेलवे स्टेशनों जैसे छोटे क्षेत्रों को अलग करने के लिए स्मार्ट माइक्रो ग्रिड की सिफारिश की है। यह सिस्टम मुख्य नेटवर्क से जुड़ा होगा और एक आउटेज के दौरान अपने आप ही रूप से अलग हो जाएगा। माइक्रो ग्रिड रूफटॉप सौर ऊर्जा और बैटरी के मिश्रण पर चलेंगे।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments