भारत, मालदीव और श्रीलंका द्वारा त्रिपक्षीय तटरक्षक अभ्यास ‘दोस्ती’ का आयोजन किया गया

भारत, मालदीव और श्रीलंका ने द्विवार्षिक त्रिपक्षीय तटरक्षक अभ्यास ‘दोस्ती’ के 15वें संस्करण का मालदीव में आयोजन किया।

मुख्य बिंदु 

  • वर्ष 2021 ‘दोस्ती’ त्रिपक्षीय तटरक्षक अभ्यास का 30वां वर्ष है।
  • यह अभ्यास 20 नवंबर को शुरू हुआ था और 25 नवंबर को समाप्त हुआ।
  • इस पांच दिवसीय अभ्यास के दौरान, भारतीय तटरक्षक पोत अर्थात् ICGS अपूर्व और ICGS वज्र, SLCGS सुरक्षा नामक श्रीलंका तटरक्षक पोत ने भाग लिया।

अभ्यास का उद्देश्य

त्रिपक्षीय अभ्यास ‘दोस्ती’ का आयोजन दोस्ती को और मजबूत करने, तीन देशों के तट रक्षकों के बीच सहयोग बनाने और आपसी परिचालन क्षमता बढ़ाने और इंटरऑपरेबिलिटी का अभ्यास करने के उद्देश्य से किया गया था। यह अभ्यास भारत के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि मालदीव और श्रीलंका भारत और उसके समुद्री सुरक्षा हितों के लिए सामरिक महत्व के हैं।

दोस्ती त्रिपक्षीय तटरक्षक अभ्यास (Dosti Trilateral Coast Guard Exercise)

‘दोस्ती’ तटरक्षक अभ्यास पहली बार 1991 में शुरू किया गया था। श्रीलंका पहली बार 2012 में इन अभ्यासों में शामिल हुआ था। तब से यह त्रिपक्षीय अभ्यास बन गया है।

दोस्ती त्रिपक्षीय तटरक्षक अभ्यास का दायरा

इन अभ्यासों का दायरा व्यापक है। इस तरह के सहयोग समुद्री दुर्घटना या तेल रिसाव जैसी पारिस्थितिक आपदा के समय मदद करते हैं। ये अभ्यास दूसरे राष्ट्र के तट रक्षक की बेहतर समझ विकसित करने में मदद करते हैं। यह विभिन्न मिशनों के दौरान समन्वय बढ़ाने में भी मदद करेगा।

Categories:

Tags: , , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments