भारत में नामीबिया से लाये जायेंगे चीता

20 जुलाई, 2022 क भारत और नामीबिया ने भारत में ऐतिहासिक रेंज में चीतों को फिर से लाने के लिए एक समझौता ज्ञापन (MoU) पर हस्ताक्षर किए। 8 चीतों (4 नर और 4 मादा) के अगस्त 2022 में भारत पहुंचने की संभावना है। उन्हें मध्य प्रदेश के कुनो राष्ट्रीय उद्यान में  लाया जाएगा।

समझौता ज्ञापन की मुख्य बातों में शामिल हैं;

  • यह ऐतिहासिक रेंज में चीतों के संरक्षण और बहाली को बढ़ावा देना चाहता है, जहां वे अब विलुप्त प्रजातियां हैं।
  • भारत और नामीबिया समझौता ज्ञापन के एक हिस्से के रूप में जलवायु परिवर्तन, पर्यावरण शासन, प्रदूषण, अपशिष्ट प्रबंधन, और पर्यावरणीय प्रभाव आकलन, प्रदूषण और अपशिष्ट प्रबंधन सहित क्षेत्रों में सहयोग करेंगे।

चीता बहाली योजना (Cheetah Restoration Plan)

  • भारत ने हर साल 8 से 10 चीतों को पेश करने की योजना बनाई है।
  • अगले पांच वर्षों में नामीबिया, दक्षिण अफ्रीका और अन्य अफ्रीकी देशों से कुल 50 चीतों को भारत में स्थानांतरित किया जाएगा।

चीता 

चीता को वैज्ञानिक रूप से एसिनोनिक्स जुबेटस (Acinonyx jubatus) के नाम से जाना जाता है। यह अफ्रीका और मध्य ईरान का मूल निवासी है। यह 80 से 128 किमी/घंटा की रफ्तार से दौड़ने वाला सबसे तेज जमीन वाला जानवर है। वे विभिन्न प्रकार के आवासों में पाए जा सकते हैं जैसे सेरेनगेटी के सवाना, सहारा की शुष्क पर्वत श्रृंखला और ईरान के पहाड़ी रेगिस्तानी इलाके। IUCN की रेड लिस्ट में चीता वल्नरेबल कैटेगरी में लिस्टेड है।

Categories:

Tags: , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments