भारत में फिर से चीता को पेश किया जायेगा

भारत सरकार ने चीता को फिर से पेश करने की योजना के एक भाग के रूप में भारत में विदेशों से रोग मुक्त, व्यवहारिक रूप से स्वस्थ चीतों को लाने की योजना बनाई है।

ऐसे और कौन से गुण हैं जिनकी सरकार तलाश कर रही है?

  • सरकार ऐसे चीता की भी तलाश कर रही है, जो सहिष्णु, शिकारियों से सावधान हैं, और जंगली शिकार का शिकार करने में सक्षम हैं।
  • चीता प्रजनन आयु में होना चाहिए।
  • उन्हें “एक दूसरे के प्रति सामाजिक रूप से सहिष्णु” होना चाहिए।

पेश किए जाने वाले चीता की संख्या

सरकार ने पांच साल की अवधि में दक्षिण अफ्रीका, नामीबिया और अन्य अफ्रीकी देशों से 12 से 14 चीतों को फिर से लाने की योजना बनाई है।

इन चीता की निगरानी कैसे की जाएगी?

इन सभी चीतों को जंगल में छोड़ने से पहले उपग्रह या GSM-GPS-VHF रेडियो-कॉलर से लैस किया जाएगा, ताकि उन पर दूर से नजर रखी जा सके।

भारत में चीता की शुरूआत के लिए कार्य योजना

भारत में चीता को लाने के लिए कार्य योजना के तहत, सरकार पांच साल की अवधि में विभिन्न राष्ट्रीय उद्यानों में कम से कम 50 चीतों को पेश करना चाहती है। पर्यावरण मंत्रालय चीता को लाने के लिए अफ्रीकी देशों के साथ परामर्श बैठकें करने की प्रक्रिया में है। प्रारंभिक चरण में, एक नई चीता आबादी स्थापित करने के लिए लगभग 12-14 जंगली चीतों का आयात किया जाएगा। इनमें 8-10 नर और 4-6 मादा होंगी।

भारत में चीता कब विलुप्त हुआ?

चीता एकमात्र बड़ा मांसाहारी है, जो 1950 के दशक में भारत में विलुप्त हो गया था।

चीता को कहां लाया जाएगा?

सरकार का लक्ष्य मध्य प्रदेश में कान्हा राष्ट्रीय उद्यान में चीता की एक स्वतंत्र आबादी स्थापित करना है। KNP में जनसंख्या को एक रूपक के रूप में प्रबंधित किया जाएगा। भारत में चीतों के प्रजनन और संरक्षण के लिए अन्य अनुशंसित स्थल हैं:

  1. नौरादेही वन्यजीव अभयारण्य, मध्य प्रदेश
  2. गांधी सागर वन्यजीव अभयारण्य, मध्य प्रदेश
  3. भैंसरोड़गढ़ वन्यजीव अभयारण्य, मध्य प्रदेश
  4. जैसलमेर, राजस्थान में शाहगढ़ उभार
  5. मुकुंदरा टाइगर रिजर्व, राजस्थान।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments