भारत-यूएई वेंचर कैपिटल फंड लांच किया गया

भारत और संयुक्त अरब अमीरात ने मिलकर स्टार्टअप्स को समर्थन देने के लिए 150 मिलियन डालर का फंड बनाया है। यह फंड 2025 तक 10 यूनिकॉर्न बनाने में मदद करेगा। यूनिकॉर्न वे स्टार्टअप हैं जिनका मूल्य 1 बिलियन अमरीकी डालर से अधिक है। इस फंड को दुबई में आयोजित एक्सपो 2020 में लॉन्च किया गया।

मुख्य बिंदु 

  • यह फंड स्टार्टअप्स को विकसित करने में उत्प्रेरक (catalyst) का काम करेगा। यह उन स्टार्टअप्स के लिए बहुत मददगार होगा जो अपने विकास के शुरुआती चरण में हैं।
  • यह फंड दोनों देशों में कम से कम 50 स्टार्टअप का समर्थन करेगा।
  • NASSCOM इस फंड का भारतीय प्रतिनिधि है।
  • भारत और यूएई ने फंड जुटाने के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।

यह फंड दोनों देशों में युवाओं की मदद कैसे करेगा?

स्टार्टअप इकोसिस्टम में युवाओं के लिए रोजगार के बड़े अवसर हैं। वे युवाओं के लिए अपनी उद्यमशीलता क्षमता को बाहर लाने का मार्ग प्रशस्त करते हैं। हालांकि, पूंजी की कमी उनकी क्षमता को साकार करने में मुख्य बाधा है। यह फंड स्टार्टअप्स को इस बाधा को दूर करने में मदद करेगा।

भारत में स्टार्टअप

भारत में 60,000 से अधिक स्टार्टअप हैं। भारत में महामारी के दौरान स्टार्टअप बड़े पैमाने पर विकसित हुए हैं। 2020 में, भारतीय स्टार्टअप्स ने 11.5 बिलियन अमरीकी डालर जुटाए। यह आंकड़ा 2021 में बढ़कर 42 बिलियन अमरीकी डालर हो गया है। अकेले 2021 में, यूनिकॉर्न टैग हासिल करने वाले स्टार्टअप्स की संख्या 46 थी। इससे कुल संख्या बढ़कर 90 हो गई है। नए यूनिकॉर्न हैं मामाअर्थ, एको, ग्लोबल बीज़, क्रेड, शेयर चैट, स्पिनी, मीशो और अन्य। वर्तमान में भारत यूनिकॉर्न के मामले में तीसरा सबसे बड़ा देश है। चीन में 301 से अधिक यूनिकॉर्न हैं। अमेरिका में 487 से अधिकयूनिकॉर्न  हैं।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments