भारत वियतनाम को चावल निर्यात करेगा

वियतनाम ने हाल ही में अपनी आकर्षक कीमतों के कारण भारत से खाद्यान्न, विशेषकर चावल खरीदना शुरू किया है। गौरतलब है कि दुनिया में चावल का तीसरा सबसे बड़ा निर्यातक देश है।

वियतनाम ने भारत से चावल आयात करना क्यों शुरू किया?

  • वियतनाम ने भारत से चावल आयात करना शुरू कर दिया है क्योंकि सीमित घरेलू आपूर्ति के कारण देश में स्थानीय कीमतें नौ वर्षों में सबसे अधिक हो गई हैं।वियतनाम ने भविष्य के लिए भारी मात्रा में चावल का भण्डारण करना शुरू कर दिया है।
  • इसके अलावा, भारतीय चावल की कीमतें बेहद आकर्षक हैं।  भारत वियतनाम में लगभग 310 डालर प्रति टन की कीमत पर 70,000 टन चावल का निर्यात करेगा। भारत को जनवरी और फरवरी, 2021 के दौरान वियतनाम को टूटे चावल का निर्यात करेगा।
  • वैश्विक महामारी ने वियतनाम और अन्य देशों को चावल के भण्डारण के लिए प्रेरित किया है।ऐसा इसलिए है क्योंकि खाद्यान्नों की सिकुड़ती आपूर्ति खाद्य असुरक्षा के बारे में चिंता बढ़ा रही है।
  • वियतनाम दुनिया भर में कोविड-19 आपूर्ति श्रृंखला अवरोधों के बीच भोजन की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए 2,70,000 अमरीकी डालर चावल का भंडार करने की योजना बना रहा है।इस प्रकार, यह कमी का सामना कर रहा है और आयात पर निर्भर है।

भारतीय चावल के अंतर्राष्ट्रीय बाजार मूल्य में वृद्धि

भारत टूटे हुए चावल को 381 डॉलर से 387 डॉलर प्रति टन पर बेच रहा है। दूसरी ओर, वियतनाम टूटे हुए चावल को 500 डालर से 505 डालर प्रति टन की दर से बेच रहा है। भारतीय चावल की इस आकर्षक कीमत ने एशियाई और अफ्रीकी देशों से इसकी मांग बढ़ा दी है। यह उम्मीद की जाती है कि थाईलैंड जैसे अन्य एशियाई देश चावल आयात के लिए भारत की ओर रुख करेंगे।

वियतनाम में धान की खेती और निर्यात

2019 की तुलना में 2020 में वियतनाम का कुल उत्पादन 1.85% गिर गया। इसके अलावा, 2020 में वियतनाम के चावल का निर्यात 2019 की तुलना में 3.5% कम हो गया है।

Categories:

Tags: , , ,

« »

Advertisement

Comments