भारत सरकार ने नए परमाणु ऊर्जा संयंत्रों (Nuclear Power Plants) के लिए मंजूरी दी

भारत सरकार द्वारा भविष्य में परमाणु ऊर्जा संयंत्र लगाने के लिए पांच नए स्थलों के लिए सैद्धांतिक मंजूरी (in-principle approval) दी गई है।

मुख्य बिंदु 

  • केंद्रीय परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि सरकार ने प्रशासनिक मंजूरी दे दी है।
  • सरकार ने 10 स्वदेशी रूप से निर्मित 700 मेगावाट Pressurized Heavy Water Reactors (PHWRs) के निर्माण के लिए वित्तीय मंजूरी भी प्रदान की है जिन्हें फ्लीट मोड में स्थापित किया जायेगा।
  • 2031 तक, देश की परमाणु क्षमता 22,480 मेगा वाट तक पहुंचने की उम्मीद है।

भारत में रिएक्टर

वर्तमान में, देश में 22 रिएक्टर कार्यरत हैं जिनकी कुल क्षमता 6,780 मेगावाट है। जनवरी 2021 में, 700 मेगा वाट उर्जा उत्पन्न करने वाले एक रिएक्टर KAPP-3 को ग्रिड से जोड़ा गया है। इसके अलावा, वर्तमान में 10 रिएक्टर निर्माण के विभिन्न चरणों में हैं और वे पूरा होने के बाद कुल 8,000 मेगावाट की क्षमता जोड़ेंगे।

परमाणु ईंधन की खरीद

स्वदेशी रूप से खनन किए गए यूरेनियम के उपयोग के माध्यम से, घरेलू संरक्षित परमाणु रिएक्टरों के लिए यूरेनियम की आवश्यकता को पूरा किया जा रहा है। परमाणु ईंधन की आपूर्ति के लिए अंतर-सरकारी समझौता करने वाले देशों से प्राकृतिक यूरेनियम अयस्क सांद्रण प्राप्त किया जा रहा है। साथ ही कजाकिस्तान, रूस, कनाडा और उज्बेकिस्तान से परमाणु ईंधन की खरीद के प्रयास किए गए हैं।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments