भारत-सिंगापुर सीईओ फोरम – मुख्य बिंदु

भारत – सिंगापुर सीईओ फोरम, जिसे नवंबर 2018 में लॉन्च किया गया था, ने फिर से अपनी बैठक आयोजित की। उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (DPIIT) और फिक्की द्वारा 18 फरवरी, 2021 को यह बैठक आयोजित की गई थी।

मुख्य बिंदु

  • इस बैठक के दौरान, वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि, दोनों देश ई-कॉमर्स, स्मार्ट विनिर्माण, फिनटेक और स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में एक साथ काम कर सकते हैं।
  • इन क्षेत्रों में, दोनों देशों में एक बड़ा बाजार हैं।
  • भारत-सिंगापुर सीईओ फोरम के सदस्यों ने उन नियामक मुद्दों और प्रक्रियाओं के समाधान के लिए काम करने पर भी सहमति व्यक्त की है जो देशों के द्विपक्षीय व्यापार और निवेश संबंधों को प्रभावित कर रहे हैं।
  • मंत्री ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि, भारत तीन बी अर्थात् Buddhism, Bollywood और Business के आधार पर सिंगापुर के साथ अपने संबंधों का विस्तार करना चाहता है।
  • सिंगापुर के व्यापार संबंधों के प्रभारी मंत्री एस. ईश्वरन ने भी दोनों देशों के व्यवसायों के बीच अधिक से अधिक जुड़ाव के लिए जोर दिया।
  • उन्होंने 3 डी के अर्थात् Development, Diversification और Digital Economy पर भी जोर दिया।

भारत-सिंगापुर संबंध

दोनों देश साइबर सुरक्षा, आपदा राहत, शिक्षा और कौशल विकास के क्षेत्र में एक साथ काम करते हैं। ये वो स्तंभ हैं जहाँ भारत सिंगापुर से सीख सकता है। इस साझेदारी से भारत को आत्मनिर्भर बनने में भी मदद मिलेगी। यह अपने वैश्विक पदचिह्न को बढ़ाने के लिए भारत को अवसर प्रदान करेगा। भारत ने सिंगापुर को आसियान समूह के एक महत्वपूर्ण सदस्य के रूप में मान्यता दी थी। सिंगापुर आसियान देशों के बीच भारत का सबसे बड़ा व्यापार भागीदार भी है। सिंगापुर एक्सचेंज ने भी GIFT शहर के साथ भागीदारी की है जो भारत का पहला ऑपरेशनल स्मार्ट शहर है।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments

  • Kmlesh
    Reply

    Good