भारत-सूरीनाम ने 7वीं संयुक्त आयोग की बैठक आयोजित की

विदेश मंत्रालय ने हाल ही में 2 दिसंबर, 2020 को 7वीं भारत-सूरीनाम संयुक्त आयोग की बैठक आयोजित की।

मुख्य बिंदु

  • इस बैठक में, दोनों देशों ने अपने द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा करने के लिए मैकेनिज्म तंत्र के महत्व पर चर्चा की।
  • उन्होंने राजनीतिक संवाद को गहरा करने के तरीकों पर भी चर्चा की।
  • दोनों देशों ने बहुपक्षीय और क्षेत्रीय सहयोग पर भी अपने विचारों का आदान-प्रदान किया।
  • भारत और सूरीनाम ने पारस्परिक संबंधों पर अपनी संतुष्टि व्यक्त की।दोनों देश ऐतिहासिक और सांस्कृतिक रूप से जुड़े हुए हैं।
  • अगली संयुक्त आयोग की बैठक वर्ष 2022 में पारामारिबो में होगी।

7वीं भारत-सूरीनाम संयुक्त आयोग बैठक

  • दोनों देशों के मंत्रियों ने व्यापार और निवेश के क्षेत्र को गति देने पर सहमति व्यक्त की।
  • दोनों देश स्वास्थ्य क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने, पारंपरिक चिकित्सा प्रणाली, कृषि, खनन, रक्षा और विकास भागीदारी, संस्कृति, शिक्षा क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर सहमत हुए।
  • इस बैठक के दौरान, सूरीनाम के साथ भारत की विकास साझेदारी को भी स्वीकार किया गया।
  • दोनों देशों ने पाइपलाइन परियोजनाओं पर भी चर्चा की।इस परियोजना का उद्देश्य ऊर्जा सुरक्षा, ऊर्जा दक्षता में योगदान देना है।

भारत-सूरीनाम संबंध

भारत और सूरीनाम ने वर्ष 1976 में अपने राजनयिक संबंध स्थापित किए थे। 1997 में, भारत ने पारामारिबो में अपना दूतावास खोला था। सूरीनाम ने वर्ष 2000 में नई दिल्ली में अपना दूतावास स्थापित किया था। दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार 228.49 मिलियन डॉलर का है। भारत, सूरीनाम से एल्यूमीनियम, लकड़ी और इलेक्ट्रिकल मशीनरी का आयात करता है, जबकि यह सूरीनाम को लोहा, स्टील, मशीनरी, बॉयलर, इलेक्ट्रिकल मशीनरी, साउंड रिकॉर्डर, चाय, वाहन और वस्त्र का निर्यात करता है। सूरीनाम ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सीट के लिए भारत की उम्मीदवारी का भी समर्थन किया है।

Categories:

Tags: , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments