भारत 2025 तक 20 गीगावाट पवन ऊर्जा क्षमता स्थापित करेगा : GWEC

हाल ही में Global Wind Energy Council (GWEC) ने India Wind Energy Market Outlook जारी किया गया। इस रिपोर्ट के अनुसार, भारत के पास केंद्र और राज्य के बाजारों में 10.3 गीगावॉट की पवन उर्जा परियोजनाएं निर्माणाधीन हैं। इस  रिपोर्ट पर प्रकाश डाला गया है कि भारत 2021-25 तक 20 GW पवन ऊर्जा क्षमता स्थापित करेगा।

वैश्विक पवन ऊर्जा परिषद (Global Wind Energy Council – GWEC)

GWEC की स्थापना 2005 में हुई थी। यह अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर संपूर्ण पवन ऊर्जा क्षेत्र के लिए विश्वसनीय और प्रतिनिधि मंच प्रदान करता है। इसका मिशन यह सुनिश्चित करना है कि पवन ऊर्जा दुनिया में अग्रणी ऊर्जा स्रोतों के रूप में स्थापित हो, जिससे कई पर्यावरणीय और आर्थिक लाभ मिलते हैं। GWEC के अनुसार, भले ही अस्थायी आपूर्ति श्रृंखला कठिनाइयाँ हैं, परन्तु अंतर्राष्ट्रीय पवन बाज़ार दृढ़ता से बढ़ रहे हैं। यूरोपीय संघ पवन ऊर्जा के क्षेत्र में अग्रणी बाजार है जिसकी स्थापित क्षमता लगभग 48 गीगावाट है।

भारत की पवन ऊर्जा क्षमता (India’s Wind Power Capacity)

भारत में पवन ऊर्जा उत्पादन क्षमता हाल के दिनों में बढ़ी है। फरवरी, 2021 तक भारत की कुल स्थापित पवन ऊर्जा क्षमता 38 GW थी। भारत की दुनिया भर में चौथी सबसे बड़ी स्थापित पवन ऊर्जा क्षमता है। पवन ऊर्जा क्षमता दक्षिणी, पश्चिमी और उत्तरी क्षेत्रों में फैली हुई है। भारत में पवन ऊर्जा की लागत तेजी से घट रही है। 2017 में भारत में पवन ऊर्जा का स्तरित टैरिफ 2.43 रुपये प्रति kWh था, हालांकि मार्च 2021 में यह बढ़कर ₹2.77 प्रति kWh हो गया।

Categories:

Tags: , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments