मंगलुरु में प्लास्टिक पार्क का निर्माण किया जायेगा

केंद्र सरकार ने हाल ही में कर्नाटक के मंगलुरु  के गंजिमट में एक प्लास्टिक पार्क बनाने की मंजूरी दी है। यह पार्क 62.77 करोड़ रुपये में बनाया जाएगा। इसे कर्नाटक औद्योगिक क्षेत्र विकास बोर्ड (Karnataka Industrial Areas Development Board – KIADB) की भूमि में बनाया जाना है।

फंड आवंटन

62.77 करोड़ रुपये की कुल अनुमानित लागत में से केंद्र सरकार 50% यानी 31.38 करोड़ रुपये की हिस्सेदारी देगी। शेष 50% राशि KIADB द्वारा वहन की जाएगी।

इस परियोजना को लागू करने के लिए KIADBअपने दायरे में एक विशेष प्रयोजन वाहन बनाएगा। 

प्लास्टिक पार्क

  • यह पार्क स्थानीय युवाओं के लिए सैकड़ों रोजगार पैदा करेगा।
  • इस पार्क में पॉली प्रोपलीन यूनिट लगाई जाएगी। यह इकाई पार्क के अंदर पॉलीमर और प्लास्टिक इकाइयों को कच्चा माल उपलब्ध कराएगी। 
  • साथ ही, पार्क परिवहन लागत को कम करने में मदद करेगा। ऐसा इसलिए है, क्योंकि पार्क के भीतर 32 कंपनियां स्थापित की जाएँगी। इसमें अन्य जिलों के उद्यमी भी शामिल हैं।
  • इस पार्क में एडमिन बिल्डिंग, एक्सपोर्ट बिल्डिंग, वेयरहाउस फैसिलिटी आदि शामिल होंगी।

प्लास्टिक पार्क योजना

प्लास्टिक पार्क औद्योगिक क्षेत्र हैं। वे मशीनरी आपूर्ति और प्लास्टिक निर्माण, प्लास्टिक रीसाइक्लिंग और प्लास्टिक प्रसंस्करण कंपनियों के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। प्लास्टिक पार्क अब तक मध्य प्रदेश के तामोंट गांव, मध्य प्रदेश के ग्वालियर के बिलौआ गांव, ओडिशा में जगतसिंहपुर के पास प्रदीप गांव, असम के गेल्लापुखुरी, झारखंड के देवीपुर, तमिलनाडु के तिरुवल्लूर जिले के वायल्लूर में बनाए गए हैं।

प्लास्टिक पार्कों की आवश्यकता

वैश्विक प्लास्टिक निर्यात में भारत की हिस्सेदारी सिर्फ 1% है। भारतीय प्लास्टिक उद्योग बहुत बड़ा है। हालाँकि, यह अत्यधिक खंडित है। प्लास्टिक पार्क उद्योग को मजबूत करने में मदद करेंगे।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments