मंगलौर विश्वविद्यालय में दुर्लभ पक्षी देखे गए

दुर्लभ पक्षी येलो-बिल्ड बैबलर (Yellow-Billed Babbler), ग्रीन सैंडपाइपर (Green Sandpiper) और ग्रे-नेक्ड बंटिंग (Grey-Necked Bunting) को मैंगलोर विश्वविद्यालय में देखा गया।

मुख्य बिंदु

  • बर्डवॉचर्स की टीम ने मैंगलोर यूनिवर्सिटी में पक्षियों की 108 प्रजातियों को देखा, जब वे कैंपस बर्ड काउंट (CBC) का आयोजन कर रहे थे।
  • कैंपस बर्ड काउंट ग्रेट बैकयार्ड बर्ड काउंट का हिस्सा है जो बर्ड काउंट ऑफ़ इंडिया द्वारा आयोजित किया जाता है।
  • पक्षी की गणना 12 फरवरी से 15 फरवरी, 2021 तक की गई थी।
  • येलो-बिल्ड बैबलर (Yellow-Billed Babbler), ग्रीन सैंडपाइपर (Green Sandpiper) और ग्रे-नेक्ड बंटिंग (Grey-Necked Bunting) इस परिसर में पाए गये नए पक्षी हैं।
  • इस अतिरिक्त के साथ, CBC ने अब तक छह वर्षों के भीतर परिसर में कुल 146 प्रजातियों को दर्ज किया है।
  • इस वर्ष जो अन्य पक्षी रिकॉर्ड किए गए उनमें ब्लैक ड्रोंगो, ब्लैक काइट, प्लम हेडेड पैराकीट्स, ब्राह्मणी काइट, कॉमन इओरा, जंगले बैबलर, पर्पल-रोम्ड सनबर्ड, रेड-व्हिस्कर्ड बुलबुल और व्हाइट-चेक्ड बार्बेट हैं।

पृष्ठभूमि

मैंगलोर यूनिवर्सिटी में कैंपस बर्ड काउंट 2016 में 77 प्रजातियां दर्ज की गई थीं। 2017 में 95 प्रजातियां दर्ज की गईं, 2018 में 110 प्रजातियां दर्ज की गईं, जबकि 2019 में 107 प्रजातियां खोजी गईं, इसके अलावा वर्ष 2020 में 103 प्रजातियां पाई गईं।

बर्ड काउंट ऑफ़ इंडिया

यह संगठनों और समूहों की एक अनौपचारिक साझेदारी है जो पक्षियों के वितरण और उनकी आबादी के बारे में सामूहिक ज्ञान को बढ़ाने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं। यह संगठन भारत में वितरण रेंज और बहुतायत पक्षियों के डॉक्यूमेंटेशन के उद्देश्य से उनके साथ काम करता है।

येलो-बिल्ड बैबलर (Yellow-Billed Babbler)

यह Leiothrichidae परिवार से सम्बंधित है। यह  पक्षी दक्षिणी भारत और श्रीलंका के लिए स्थानिक है। झाड़ी, खेत और बगीचे की जमीन इस पक्षी का निवास स्थान है। यह पक्षी प्रवासी नहीं है।

ग्रे-नेक्ड बंटिंग (Grey-Necked Bunting)

इसका वैज्ञानिक नाम Emberiza buchanani है। इसे ग्रे-हूडेड बंटिंग भी कहा जाता है। यह प्रजाति परिवार Emberizidae से सम्बंधित है।

 

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments