मजदूरी दर सूचकांक (Wage Rate Index – WRI) में संशोधित आधार वर्ष : मुख्य बिंदु

हाल ही में, श्रम मंत्रालय ने आधार वर्ष 2016 के साथ मजदूरी दर सूचकांक (WRI) की एक नई श्रृंखला जारी की।

मुख्य बिंदु

  • श्रम ब्यूरो द्वारा मजदूरी दर सूचकांक (Wage Rate Index – WRI) का संकलन और रखरखाव किया जा रहा है।
  • आधार 2016=100 के साथ WRI की नई श्रृंखला पुरानी श्रृंखला को आधार 1963-65 से बदलने जा रही है।

आधार वर्ष को क्यों संशोधित किया गया?

केंद्र सरकार समय-समय पर प्रमुख आर्थिक संकेतकों के लिए आधार वर्ष में संशोधन करती है ताकि अर्थव्यवस्था में बदलाव को दर्शाया जा सके और श्रमिकों के वेतन पैटर्न को कैप्चर किया जा सके। इस बार, कवरेज बढ़ाने और सूचकांक को अधिक प्रतिनिधि बनाने के लिए राष्ट्रीय सांख्यिकी आयोग, अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन आदि की सिफारिशों पर WRI आधार वर्ष को संशोधित किया गया है।

नई श्रृंखला का महत्व

WRI की नई श्रृंखला ने उद्योगों की संख्या, चयनित उद्योगों के तहत व्यवसायों, नमूना आकार, उद्योगों के भार आदि के मामले में दायरा और कवरेज में वृद्धि की है। WRI का संशोधन न्यूनतम मजदूरी और अन्य सहित राष्ट्रीय फ्लोर मजदूरी निर्धारण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। 

नई WRI श्रृंखला

नई WRI श्रृंखला को वर्ष में दो बार  (प्रत्येक वर्ष 1 जनवरी और 1 जुलाई को) संकलित किया जाएगा। व्यावसायिक वेतन सर्वेक्षण के सातवें दौर के परिणामों के आधार पर नई WRI श्रृंखला में भार आरेख तैयार किया गया था। नई WRI टोकरी में, 1963-65 श्रृंखला में 21 उद्योगों के विपरीत कुल 37 उद्योगों को शामिल किया गया है।

नई WRI श्रृंखला में शामिल क्षेत्र

नई श्रृंखला में चयनित 37 उद्योगों को वृक्षारोपण क्षेत्र से 3 उद्योग, खनन क्षेत्र से 4 उद्योग और विनिर्माण क्षेत्र से 30 उद्योग के रूप में वर्गीकृत किया गया है। पिछली श्रृंखला में, विनिर्माण क्षेत्र से 14 उद्योग, खनन से 4 और वृक्षारोपण क्षेत्र से 3 उद्योग थे।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments