मानव-वन्यजीव सह-अस्तित्व पर WWF-UNEP ने  रिपोर्ट जारी की

World Wide Fund for Nature (WWF) और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) ने हाल ही में “A future for all – the need for human-wildlife coexistence” शीर्षक से अपनी रिपोर्ट जारी की।

रिपोर्ट के प्रमुख निष्कर्ष

  • इस रिपोर्ट के अनुसार, मानव-पशु संघर्ष दुनिया (human-animal conflict) विश्व की सबसे प्रतिष्ठित प्रजातियों के दीर्घकालिक अस्तित्व के लिए मुख्य खतरों में से एक है।
  • संघर्ष से संबंधित मौतें दुनिया की 75% से अधिक जंगली बिल्ली प्रजातियों (wild cat species) को प्रभावित करती हैं।
  • यह ध्रुवीय भालू, भूमध्यसागरीय मोंक सील और हाथियों जैसे बड़े शाकाहारी जीवों को भी प्रभावित करता है।
  • संघर्षों के कारण 1970 के बाद से वैश्विक वन्यजीव आबादी में 68% की कमी आई है।

रिपोर्ट भारत के बारे में क्या उजागर करती है?

  • भारत में, मानव-हाथी संघर्ष के परिणामस्वरूप 2014-2015 और 2018-2019 के दौरान 500 हाथियों और 2361 लोगों की मौत हुई।
  • दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी मानव आबादी और बाघों, एशियाई शेरों, एशियाई हाथियों, एक सींग वाले गैंडों आदि की बड़ी आबादी होने के कारण भारत मानव-वन्यजीव संघर्ष से सबसे अधिक प्रभावित होने जा रहा है।

आगे का रास्ता

मानव-पशु संघर्ष को पूरी तरह समाप्त नहीं किया जा सकता है। हालांकि, संघर्षों को कम करने के लिए एक सुनियोजित और एकीकृत दृष्टिकोण अपनाया जा सकता है। यह मनुष्यों और जानवरों के बीच सह-अस्तित्व (coexistence) का एक रूप भी पैदा कर सकता है।

भारत का सोनितपुर मॉडल (Sonitpur Model of India)

यह मॉडल डब्ल्यूडब्ल्यूएफ इंडिया द्वारा असम के सोनितपुर जिले में विकसित किया गया था, जहां जंगलों के विनाश ने हाथियों को फसलों पर हमला करने के लिए प्रेरित किया था। इससे इंसानों के साथ-साथ हाथियों की भी मौत हो रही थी। इस संघर्ष को कम करने के लिए 2003-2004 के दौरान ‘सोनितपुर मॉडल’ विकसित किया गया था। इस मॉडल के तहत समुदाय के सदस्यों को राज्य वन विभाग से जोड़ा जाता है। समुदाय के सदस्यों को खेत में काम करने और हाथियों को फसल के खेतों से सुरक्षित रूप से दूर भगाने के बारे में प्रशिक्षण दिया जाता है। डब्ल्यूडब्ल्यूएफ इंडिया ने हाथियों से फसलों की सुरक्षा को आसान बनाने के लिए एक कम लागत वाली, सिंगल स्ट्रैंड, गैर-घातक बिजली की बाड़ भी विकसित की। इस मॉडल के परिणामस्वरूप, फसल का नुकसान शून्य हो गया और मानव और हाथियों की मृत्यु भी कम हो गई है।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments