यूनेस्को-मदनजीत सिंह पुरस्कार (UNESCO-Madanjeet Singh Prize) 2022 की घोषणा की गई

फ्रांका मा-इह सुलेम योंग (Franca Ma-ih Sulem Yong) ने यूनेस्को-मदनजीत सिंह पुरस्कार का 2022 संस्करण जीता है।

यूनेस्को-मदनजीत सिंह पुरस्कार (UNESCO-Madanjeet Singh Prize)

यूनेस्को-मदनजीत सिंह पुरस्कार सहिष्णुता और अहिंसा को बढ़ावा देने के लिए हर दो साल में यूनेस्को द्वारा प्रदान किया जाता है। यह पुरस्कार यूनेस्को के संविधान के आदर्शों के आधार पर बनाया गया था।

1995 के संयुक्त राष्ट्र सहिष्णुता वर्ष के बाद और महात्मा गांधी की 125वीं जयंती के संबंध में 1996 में इसका अनावरण किया गया। यह पुरस्कार मदनजीत सिंह – पूर्व भारतीय कलाकार, लेखक और राजनयिक, जिन्होंने यूनेस्को सद्भावना राजदूत के रूप में सेवा की थी, के दान द्वारा वित्त पोषित किया गया था।

यह पुरस्कार कला, शिक्षा, संस्कृति, विज्ञान और संचार के माध्यम से सहिष्णुता और अहिंसा को बढ़ावा देने में शामिल संस्थानों और व्यक्तियों के असाधारण योगदान को सम्मानित करता है। इस पुरस्कार में 1,00,000 अमरीकी डालर की पुरस्कार राशि शामिल है। इसका प्रबंधन यूनेस्को के सामाजिक और मानव विज्ञान क्षेत्र द्वारा किया जाता है।

फ्रांका मा-इह सुलेम योंग (Franca Ma-ih Sulem Yong)

  • एक पत्रकार के रूप में 7 साल के अनुभव के साथ फ्रांका मा-इह सुलेम योंग ने मानसिक बीमारी से संबंधित धारणा को बदलने का प्रयास किया।
  • कला चिकित्सा और मनोविज्ञान में प्रशिक्षण के साथ, उन्होंने दो गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ) की स्थापना की – Afrogiveness Movement और Positive Youths Africa (PYA)।
  • वे नौ अफ्रीकी देशों – कैमरून, मध्य अफ्रीकी गणराज्य, चाड, कांगो, माली, नाइजर, नाइजीरिया, सूडान और टोगो में काम करते हैं।
  • इन गैर-सरकारी संगठनों के माध्यम से, फ्रांका मा-एह सुलेम योंग सहिष्णुता और अहिंसा को बढ़ावा दे रहीं हैं।

Categories:

Tags: , , , ,

« »

Advertisement

Comments