राजस्थान में रामगढ़ विषधारी वन्यजीव अभयारण्य (Ramgarh Vishdhari Sanctuary) को बाघ अभयारण्य घोषित किया गया

राजस्थान में रामगढ़ विषधारी वन्यजीव अभयारण्य को हाल ही में भारत के 52वें बाघ अभयारण्य के रूप में अधिसूचित किया गया था।

इसे टाइगर रिजर्व घोषित करने की मंजूरी कब दी गई थी?

अप्रैल 2020 में राजस्थान सरकार ने बाघों के लिए रामगढ़ विषधारी अभयारण्य विकसित करने का प्रस्ताव भेजा था। जुलाई 2021 में, राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (NTCA) द्वारा रामगढ़ विषधारी वन्यजीव अभयारण्य और आसपास के क्षेत्रों को बाघ अभयारण्य बनाने के लिए सैद्धांतिक मंजूरी दी गई थी।

रामगढ़ विषधारी वन्यजीव अभ्यारण्य की सीमा कितनी है?

रामगढ़ विषधारी वन्यजीव अभयारण्य लगभग 252 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। इसे 1982 में राजस्थान वन्यजीव और पक्षी संरक्षण अधिनियम, 1951 के तहत एक अभयारण्य घोषित किया गया है।

इस टाइगर रिजर्व में कौन से जंगली जानवर देखे जाते हैं?

भारतीय भेड़िया, तेंदुआ, सुस्त भालू, सुनहरा सियार, लोमड़ी आदि को देखा जा सकता है।

राजस्थान में कितने टाइगर रिजर्व हैं?

चार। रामगढ़ विषधारी अभयारण्य चौथा टाइगर रिजर्व है। अन्य तीन टाइगर रिजर्व सवाई माधोपुर जिले में रणथंभौर टाइगर रिजर्व, कोटा जिले में मुकुंदरा हिल्स टाइगर रिजर्व और अलवर जिले में सरिस्का टाइगर रिजर्व हैं।

रामगढ़ विषधारी अभयारण्य को बाघ अभयारण्य घोषित करने का क्या महत्व है?

  • रामगढ़ विषधारी अभयारण्य बाघों की आवाजाही में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह रणथंभौर टाइगर रिजर्व को मुकुंदरा हिल्स टाइगर रिजर्व से जोड़ेगा, इस प्रकार यह एक महत्वपूर्ण टाइगर कॉरिडोर बन जाएगा।
  • यह रणथंभौर टाइगर रिजर्व के लिए एक बफर के रूप में कार्य करेगा और इससे बाघों के फैलाव की सुविधा प्रदान करेगा। इस प्रकार यह रणथंभौर में भीड़भाड़ की समस्या को रोकता है।
  • भीमलाट, और रामगढ़ महल जैसे टाइगर रिजर्व के भीतर स्थलों की उपस्थिति के कारण इको टूरिज्म को बढ़ावा मिलेगा। इससे स्थानीय लोगों को आजीविका के अवसर भी मिलेंगे।

टाइगर कॉरिडोर क्या है?

यह बाघों के आवासों को जोड़ने वाली भूमि का एक खंड है, जिससे बाघों और अन्य वन्यजीवों की आवाजाही का मार्ग मिलता है।

भारत में कितने टाइगर कॉरिडोर हैं?

भारत में 30 से अधिक बड़े टाइगर कॉरिडोर और कई छोटे टाइगर कॉरिडोर हैं।

टाइगर कॉरिडोर का क्या महत्व है?

गलियारों के कारण बाघों को अधिक जगह मिलेगी और मानव-वन्यजीव संघर्ष कम होंगे। वे भेड़ियों, लकड़बग्घा, पक्षियों, सरीसृपों आदि जैसे अन्य वन्यजीवों के आवास के रूप में भी काम करते हैं।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments