राष्ट्रीय पोषण माह (Rashtriya Poshan Maah) 2022 शुरू हुआ

महिला और बाल विकास मंत्रालय 1 से 30 सितंबर, 2022 तक 5वां राष्ट्रीय पोषण माह 2022 मना रहा है। इस वर्ष “महिला और स्वास्थ्य” और “बच्चा और शिक्षा” पर मुख्य फोकस के साथ मनाया जा रहा है।

मुख्य बिंदु 

  • इस माह चलने वाले पोषण माह में गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं, छह साल से कम उम्र के बच्चों और किशोरियों पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। साथ ही उन्हें संवेदीकरण अभियान, आउटरीच कार्यक्रमों और शिविरों के माध्यम से पोषण के महत्व के बारे में जागरूक किया जाएगा।
  • संबंधित जिला पंचायती राज अधिकारियों, CDPO, स्थानीय अधिकारियों द्वारा पंचायत स्तर पर जागरूकता गतिविधियां संचालित की जाएंगी।
  • इस बार आंगनबाडी केंद्रों में बच्चों को पढ़ाने के लिए देशी व स्थानीय खिलौनों के प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए राष्ट्रीय स्तर की खिलौना निर्माण कार्यशाला भी आयोजित की जाएगी।
  • इस कार्यक्रम के तहत आंगनबाडी केंद्रों पर महिलाओं के बीच वर्षा जल संचयन के महत्व पर जोर दिया जाएगा और साथ ही आदिवासी क्षेत्रों में स्वस्थ मां और बच्चे के लिए पारंपरिक खाद्य पदार्थों से संबंधित जानकारी प्रदान की जाएगी।
  • राज्य स्तरीय गतिविधियों के तहत पारंपरिक पौष्टिक व्यंजनों की ‘अम्मा की रसोई’ भी संचालित की जाएगी। साथ ही पोषण माह के दौरान स्थानीय त्योहारों के साथ पारंपरिक खाद्य पदार्थों को एकीकृत करने के व्यापक प्रयास किए जाएंगे।

पोषण अभियान (POSHAN Abhiyaan)

पोषण अभियान गर्भवती महिलाओं, स्तनपान कराने वाली मां, बच्चों और किशोरियों के लिए पोषण संबंधी परिणामों में सुधार के लिए भारत सरकार का प्रमुख कार्यक्रम है। यह मिशन 8 मार्च, 2018 को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किया गया था। पोषण (POSHAN) का अर्थ “Prime Minister’s Overarching Scheme for Holistic Nutrition” अभियान है। इस मिशन की घोषणा 2021-2022 के बजट में की गई थी।

मिशन का उद्देश्य

पोषण अभियान कुपोषण की समस्या की ओर फोकस करता है और इसे मिशन-मोड में संबोधित करता है। यह मिशन पोषण अभियान, मिशन पोषण 2.0 के उद्देश्यों पर केंद्रित है। यह पोषण सामग्री, वितरण, आउटरीच और परिणामों को मजबूत करने का प्रयास करता है ताकि बीमारियों के साथ-साथ कुपोषण पर स्वास्थ्य, कल्याण और प्रतिरक्षा का पोषण करने वाली प्रथाओं को विकसित किया जा सके।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments