राष्ट्रीय शिक्षा दिवस (National Education Day) मनाया गया

मौलाना अबुल कलाम आजाद (Maulana Abul Kalam Azad) की जयंती के अवसर पर 11 नवंबर को राष्ट्रीय शिक्षा दिवस मनाया जाता है।

मुख्य बिंदु

  • यह दिन आमतौर पर कई समारोहों और कार्यक्रमों का आयोजन करके स्कूलों में मनाया जाता है।
  • यह दिवस 2008 से मनाया जा रहा है।

राष्ट्रीय शिक्षा दिवस की पृष्ठभूमि

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने भारत में शिक्षा के क्षेत्र में उनके योगदान को याद करते हुए मौलाना अबुल कलाम आजाद के जन्मदिन के उपलक्ष्य में 11 सितंबर, 2008 को राष्ट्रीय शिक्षा दिवस मनाने की घोषणा की थी। तब से, 11 नवंबर को बिना किसी छुट्टी के राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाया जाता है।

महत्व

यह दिन हर साल स्कूलों में कई रोचक और सूचनात्मक सेमिनार, निबंध-लेखन, रैलियां, संगोष्ठी इत्यादि आयोजित करके मनाया जाता है। इस दिन छात्र और शिक्षक एक साथ आते हैं और शिक्षा के सभी पहलुओं में साक्षरता और राष्ट्र की प्रतिबद्धता के महत्व के बारे में बात करते हैं। इस दिन को स्वतंत्र भारत की शिक्षा प्रणाली में मौलाना अबुल आजाद के योगदान के लिए श्रद्धांजलि के रूप में मनाया जाता है।

मौलाना अबुल आजाद

मौलाना अबुल आज़ाद एक भारतीय स्वतंत्रता कार्यकर्ता, लेखक, इस्लामी धर्मशास्त्री और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (INC) के एक वरिष्ठ नेता थे। वह स्वतंत्र भारत के पहले शिक्षा मंत्री बने और 1947 से 1958 तक पंडित जवाहरलाल नेहरू के मंत्रिमंडल में अपनी सेवाएं दीं।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments