राष्ट्रीय संपत्ति पुनर्निर्माण कंपनी (National Asset Reconstruction Company) : मुख्य बिंदु

नेशनल एसेट रिकंस्ट्रक्शन कंपनी (NARC) रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (RoC) मुंबई के साथ पंजीकृत एक कानूनी इकाई बन गई है।

मुख्य बिंदु

  • NARC को बैड बैंक भी कहा जाता है।इसे बैंकिंग सिस्टम स्ट्रेस्ड एसेट्स के लिए वन-स्टॉप सॉल्यूशन माना जाता है।
  • पहले चरण के तहत, NARC को हस्तांतरित करने के लिए 89,000 करोड़ रुपये की राशि के 22 स्ट्रेस्ड खातों की पहचान की गई है।
  • इसके साथ, 2 लाख करोड़ रुपये के बैड लोन खातों को इस नए बैड बैंक में ट्रांसफर किया जाएगा।
  • SBI से 20,000 करोड़ रुपये के बैड लोन ट्रांसफर करने की उम्मीद है।
  • PNB लगभग 8,000 करोड़ रुपये की स्ट्रेस्ड एसेट्स ट्रांसफर करेगा, जबकि,
  • यूनियन बैंक ऑफ इंडिया लगभग 7800 करोड़ रुपये का NPA ट्रांसफर करेगा।

NARC

  • NARC को 7 जुलाई, 2021 को गठित किया गया था।
  • इसकी अधिकृत पूंजी 100 करोड़ रुपये और चुकता पूंजी 6 करोड़ रुपये है।
  • NARCL में 16 बैंक, 12 सरकारी और 4 निजी बैंक निवेश करेंगे।
  • केनरा बैंक 12% हिस्सेदारी के साथ NARL का एकमात्र प्रायोजक होगा।
  • SBI 9.9% के साथ दूसरा सबसे बड़ा शेयरधारक बनने जा रहा है।
  • NARC का नेतृत्व एसबीआई के स्ट्रेस्ड एसेट्स विशेषज्ञ पद्मकुमार माधवानी (Padmakumar Madhvan) को प्रबंध निदेशक के रूप में करेंगे।

आवश्यकता

बैंकिंग प्रणाली पर कुल दबाव 15 लाख करोड़ रुपये से अधिक है। इसलिए, दबाव वाली संपत्तियों और सीमित पूंजी के बोझ तले दबे बैंकों के लिए एनपीए का प्रबंधन करना मुश्किल हो जाता है। इसके अलावा, सरकार केवल एक सीमित पूंजी प्रदान कर सकती है। इस प्रकार, यह बैड बैंक मॉडल सरकार और बैंकों दोनों को एनपीए के प्रबंधन में मदद करेगा।

Categories:

Tags: , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments