रूसी कोविड-19 वैक्सीन Sputnik V का पहला बैच भारत में पहुंचा

हाल ही में रूस द्वारा निर्मित स्पुतनिक-वी (Sputnik-V) वैक्सीन की पहली खेप भारत में पहुँच गयी है। पहले बैच में  1,50,000 वैक्सीन प्राप्त हुए हैं।

गौरतलब है कि स्पुतनिक-वी (Sputnik-V) तीसरा टीका है जिसका उपयोग भारत में कोरोनवायरस के खिलाफ किया जाएगा। हाल ही में भारत के ड्रग कंट्रोलर जनरल (Drug Controller General of India) ने हाल ही में स्पुतनिक-वी कोविड-19 वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग को मंजूरी दी थी।

स्पुतनिक वी टीका (Sputnik V Vaccine)

स्पुतनिक वी एक रूसी टीका है। डॉ. रेड्डीज लैब्स ने वैक्सीन पर नैदानिक ​​परीक्षण करने और भारत में इसके वितरण अधिकारों के लिए रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष के साथ भागीदारी की है। इस टीके ने अपने चरण 3 परीक्षणों के दौरान 91.6% प्रभावकारिता हासिल की है।

COVAXIN

COVAXIN भारत बायोटेक द्वारा निर्मित एक सरकारी समर्थित टीका है। इसकी प्रभावकारिता दर 81% है। COVAXIN वैक्सीन के चरण तीन परीक्षणों में 27,000 से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया है। COVAXIN दो खुराक में दिया जाता है। खुराक के बीच का समय अंतराल चार सप्ताह है। COVAXIN को मृत COVID-19 वायरस से तैयार किया गया था।

COVISHIELD

COVISHIELD वैक्सीन एस्ट्राज़ेनेका द्वारा निर्मित है। स्थानीय रूप से, COVISHIELD सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया द्वारा निर्मित किया जा रहा है। यह चिम्पांजी के एडेनोवायरस नामक एक सामान्य कोल्ड वायरस के कमजोर संस्करण से तैयार किया गया था। COVID-19 वायरस की तरह दिखने के लिए वायरस को संशोधित किया गया है। यह दो खुराक में लगाया जाता है।

 

Categories:

Tags: , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments