रेल मंत्रालय ने भारतीय रेल वैकल्पिक ईंधन संगठन (IROAF) को बंद किया

रेल मंत्रालय ने भारतीय रेल वैकल्पिक ईंधन संगठन (Indian Railways Organization of Alternate Fuel – IROAF) को 7 सितंबर, 2021 से प्रभावी रूप से बंद कर दिया है।

मुख्य बिंदु

  • IROAF एक अलग उद्यम है जो परिवहन के लिए हरित ईंधन के क्षेत्र में काम करता है।
  • इसने हाल ही में ट्रेनों को चलाने के लिए हाइड्रोजन ईंधन सेल आधारित प्रौद्योगिकी के लिए बोलियां आमंत्रित की हैं।
  • इसके बंद होने से IROA की चल रही परियोजनाओं या अनुबंधों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। कुछ प्रशासनिक परिवर्तन के साथ, परियोजनाओं को पहले की तरह क्रियान्वित किया जाएगा।
  • IROAF का काम उत्तर रेलवे और रेलवे बोर्ड को हस्तांतरित किया जाएगा।
  • IROAF के सौर ऊर्जा रोलिंग स्टॉक या वैकल्पिक ईंधन विद्युत निदेशालय को रेलवे बोर्ड को हस्तांतरित किया जाएगा, जबकि मौजूदा निविदाओं को उत्तर रेलवे द्वारा संभाला जाएगा।

बायो-डीजल के साथ प्रयोग

IROAF ने अपनी क्षमता के अनुसार डीजल का विकल्प खोजने के लिए पहले बायो-डीजल इंजन, CNG-ईंधन वाले इंजन आदि के साथ प्रयोग किया था। यह 2022 तक अक्षय ऊर्जा को अपनाकर कार्बन उत्सर्जन को कम करने की सरकार की योजनाओं के अनुरूप सौर ऊर्जा से चलने वाली ट्रेनों पर भी काम कर रहा था।

IROAF 

IROAF भारतीय रेलवे पर एकल खिड़की है जो अलावा वैकल्पिक ईंधन के उपयोग से संबंधित कार्य से संबंधित है। यह भारतीय रेलवे में बायो डीजल पेश करने का प्रयास कर रहा है। यह रोलिंग स्टॉक और यांत्रिक संपत्तियों में सौर ऊर्जा के उपयोग को बढ़ावा देने का भी प्रयास करता है।

Categories:

Tags: , , , ,

« »

Advertisement

Comments