लद्दाख में बनेगी भारत की पहली नाइट स्काई सैंक्चुअरी (Night Sky Sanctuary)

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग ने एक अनूठी और अपनी तरह की पहली पहल में लद्दाख में भारत का पहला नाइट स्काई अभयारण्य (Night Sky Sanctuary) स्थापित करने का निर्णय लिया है।

मुख्य बिंदु 

  • यह प्रस्तावित डार्क स्काई रिजर्व लद्दाख के हानले में चांगथांग वन्यजीव अभयारण्य के हिस्से के रूप में स्थित होगा।
  • यह भारत में खगोल-पर्यटन को बढ़ावा देगा और ऑप्टिकल, इन्फ्रारेड और गामा-रे दूरबीनों के लिए दुनिया के सबसे ऊंचे स्थानों में से एक होगा।

चांगथांग वन्यजीव अभयारण्य (Changthang Wildlife Sanctuary)

लद्दाख के लेह जिले में चांगथांग पठार में स्थित, चांगथांग वन्यजीव अभयारण्य लद्दाख क्षेत्र के सबसे लोकप्रिय अभयारण्यों में से एक है। अपने सुरम्य परिदृश्य के साथ, इस अभयारण्य में वनस्पतियों और जीवों की एक विशाल विविधता है।

लगभग 4000 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैले इस अभयारण्य में त्सो मोरीरी झील (Lake Tso Moriri) भी है। इसे नॉर्थईस्ट ग्रीनलैंड नेशनल पार्क के बाद दूसरा सबसे बड़ा नेचर रिजर्व माना जाता है। यह अभयारण्य 14,000-19000 फीट की ऊंचाई पर स्थित है।

चांगथांग वन्यजीव अभयारण्य के पास के स्थान

कोरज़ोक गांव चांगथांग वन्यजीव अभयारण्य के पास स्थित है, जिसे दुनिया का सबसे ऊंचा गांव माना जाता है। इस गांव का मुख्य आकर्षण कोरज़ोक मठ (Korzok Monastery) है। चांगथांग वन्यजीव अभयारण्य के आसपास के अन्य स्थान पैंगोंग त्सो झील, त्सो कार झील, खारदुंग ला दर्रा और शांति स्तूप हैं।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments