लेबनान में लितानी नदी में 40 टन मछली मृत पाई गयी

लितानी नदी (River Litani) लेबनान की सबसे लंबी नदी है। इसमें एक कृत्रिम झील है जिसे लितानी नदी बांध द्वारा बनाया गया है, इस झील का नाम कारून झील (Qaraoun lake) है। अत्यधिक प्रदूषण के कारण हाल ही में झील के किनारे लगभग 40 टन मछली मृत पायी गयी। यह प्रदूषण मुख्य रूप से सीवेज डंपिंग के कारण हुआ था। क्षेत्र में पहली बार इतनी बड़ी आपदा हो रही है।

2018 में जलाशय में मछली पकड़ने पर प्रतिबंध लगाया गया था। हालांकि, प्रदूषण को रोकने के लिए कार्रवाई अपर्याप्त थी।

लितानी नदी (Litani river)

  • यह नदी लेबनान के दक्षिणी भाग के लिए एक महत्वपूर्ण जल स्रोत है।
  • लितानी बांध का निर्माण 1959 में सिंचाई और जल विद्युत परियोजनाओं के लिए किया गया था।
  • यह बेक्का घाटी (Beqaa valley) से निकलती है और भूमध्य सागर में मिल जाती है।

लितानी नदी की लड़ाई (Battle of Litani River)

यह लड़ाई 9 जून, 1941 को लड़ी गयी थी। यह दूसरे विश्व युद्ध की लड़ाई थी। यह बेरूत को आगे बढ़ाने के लिए लड़ी गयी थी। इस युद्ध के दौरान, ऑस्ट्रेलियाई सैनिकों ने लितानी नदी को पार किया और विची फ्रांसीसी सैनिकों के साथ लड़े। यह सीरिया-लेबनान अभियान का एक हिस्सा था, जो विची फ्रेंच, लेबनान और सीरिया पर ब्रिटिश आक्रमण है। विची फ्रेंच जर्मनी का एक स्वतंत्र सहयोगी था।

Categories:

Tags: , , , ,

« »

Advertisement

Comments