लोकसभा ने दिवाला और दिवालियापन संहिता (संशोधन) विधेयक 2021 पारित किया

28 जुलाई, 2021, लोकसभा ने दिवाला और दिवालियापन संहिता (संशोधन) विधेयक 2021 (Insolvency and Bankruptcy Code (Amendment) Bill 2021) पारित किया। इस विधेयक द्वारा दिवाला और दिवालियापन संहिता (संशोधन) अध्यादेश 2021 की जगह ली जाएगी

मुख्य बिंदु

  • दिवाला (Insolvency) एक ऐसी स्थिति है जहां कोई कंपनी या व्यक्ति अपने कर्ज का भुगतान करने में असमर्थ होते हैं।
  • सरकार ने अधिसूचित किया है कि एक पूर्व-पैक समाधान प्रक्रिया (pre-packaged resolution process) की शुरुआत के लिए एक डिफ़ॉल्ट की सीमा जो 1 करोड़ रुपये से अधिक नहीं है, अपरिवर्तित बनी हुई है।
  • 4 अप्रैल, 2021 को सरकार एक अध्यादेश पेश किया था जिसके तहत सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (MSMEs) के लिए पूर्व-पैक समाधान प्रक्रिया (pre-packaged resolution process) की व्यवस्था की गयी थी।
  • इस अध्यादेश के तहत, एक प्री-पैकेज्ड इन्सॉल्वेंसी रिजॉल्यूशन प्रोसेस (PIRP) स्थापित किया गया था जो एक वैकल्पिक MSME इनसॉल्वेंसी रिजॉल्यूशन प्रोसेस प्रदान करता है।

प्री-पैक्ड दिवाला समाधान तंत्र (pre-packed insolvency resolution mechanism) क्या है?

प्री-पैक्ड इनसॉल्वेंसी रिजॉल्यूशन मैकेनिज्म एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें NCLT से मंजूरी लेने से पहले ऋणदाता और देनदार के बीच एक समाधान व्यवस्था तय की जाती है। इस प्री-पैक फ्रेमवर्क के तहत, एक देनदार ऋणदाता के साथ मिलकर समाधान की कार्यवाही शुरू करेगा और उसमें भाग लेगा। यह एक अनौपचारिक प्रक्रिया के माध्यम से किया जाता है जो महंगी और लंबी अदालती प्रक्रियाओं से बचने में मदद करता है।

कॉर्पोरेट दिवाला समाधान प्रक्रिया (Corporate Insolvency Resolution Process – CIRP)

जैसा कि दिवाला और दिवालियापन संहिता (Insolvency and Bankruptcy Code – IBC) में कहा गया है, मौजूदा कॉर्पोरेट दिवाला समाधान प्रक्रिया (CIRP) के तहत, समाधान प्रक्रिया को पूरा करने के लिए अधिकतम 270 दिन प्रदान किए जाते हैं। प्रशासन का नियंत्रण लेने के लिए एक समाधान पेशेवर (resolution professional ) की नियुक्ति की जाती है और प्रवर्तकों को पद छोड़ना पड़ता है। नियुक्त किया गया समाधान पेशेवर तब समाधान और बोली प्रक्रिया का प्रबंधन करता है, जिसमें आमतौर पर कई महीने लगते हैं। नई प्री-पैक योजना के तहत, समाधान के लिए समय सीमा कम हो जाएगी और प्रतिभागियों को समाधान योजना प्रस्तुत करने के लिए 90 दिन का समय मिलेगा और NCLT उन्हें अगले 30 दिनों में स्वीकृत करेगा।

MSME के लिए नियम

एक MSME, जिसने अपने 10 लाख रुपये के भुगतान दायित्व को पूरा नहीं किया है, वह या तो उधारदाताओं की मंजूरी के साथ एक प्री-पैक दिवालियापन समाधान योजना शुरू कर सकता है या ऋणदाता जो व्यवसाय के 66% ऋण का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं, वे स्वयं प्रक्रिया शुरू कर सकते हैं।

Categories:

Tags: , , , , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments