विश्व बैंक ने भारत के GDP पूर्वानुमान को कम किया

वित्त वर्ष 2022-23 के लिए विश्व बैंक ने भारत के सकल घरेलू उत्पाद का अनुमान 8.7% से घटाकर 8% कर दिया है। पूर्वानुमान में बदलाव का कारण बढ़ती मुद्रास्फीति और रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण वैश्विक आपूर्ति का प्रभावित होना बताया जा रहा है।

मुख्य बिंदु 

  • अफगानिस्तान को छोड़कर दक्षिण एशिया का विकास दृष्टिकोण भी 6.6% तक गिर गया है।
  • विश्व बैंक के अनुसार, मुद्रास्फीति और COVID-19-संबंधित दबावों से श्रम बाजार की अधूरी रिकवरी के कारण भारत की घरेलू खपत बाधित होगी।
  • यूक्रेन में युद्ध के कारण उच्च खाद्य और तेल की कीमतों का भी लोगों की वास्तविक आय पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

एशियाई विकास बैंक आउटलुक 2022

एशियाई विकास बैंक आउटलुक 2022 ने पहले कहा था कि भारत सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था के रूप में अपनी स्थिति बनाए रखेगा। मजबूत निवेश संभावनाओं के आधार पर 2022-23 में देश की विकास दर 7.5% होगी। जनवरी से दिसंबर 2022 में चीन के विकास की संभावना 5% बताई गई है।

एडीबी के अनुसार 2023-24 में भारत का विकास

2023-24 के अगले वित्त वर्ष में, भारत की विकास दर 8% तक और तेज हो जाएगी, जबकि 2023 में चीन की विकास दर 4.8 प्रतिशत तक गिर जाएगी।

अन्य क्षेत्रों के लिए विश्व बैंक का पूर्वानुमान

पाकिस्तान

जून में समाप्त होने वाले चालू वर्ष के लिए पाकिस्तान का विकास पूर्वानुमान 3.4 प्रतिशत से बढ़ाकर 4.3 प्रतिशत कर दिया गया है। अगले साल के ग्रोथ आउटलुक को 4% पर अपरिवर्तित रखा गया है।

मालदीव

मालदीव के इस साल के विकास का अनुमान 11% से घटाकर 7.6% कर दिया गया है।

श्रीलंका

श्रीलंका के लिए विकास का पूर्वानुमान 2.1 प्रतिशत से बढ़ाकर 2.4 प्रतिशत कर दिया गया है, लेकिन संकटग्रस्त देश के लिए एक चेतावनी भी जारी की है कि राजकोषीय असंतुलन के कारण दृष्टिकोण अनिश्चित था।

Categories:

Tags: , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments