व्यवस्थित रूप से महत्वपूर्ण घरेलू बैंक (Domestic Systemically Important Banks – D-SIBs) क्या हैं?

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के अनुसार भारतीय स्टेट बैंक (SBI), HDFC बैंक और ICICI बैंक व्यवस्थित रूप से महत्वपूर्ण घरेलू बैंकों (Domestic Systemically Important Banks – D-SIB) हैं।

मुख्य बिंदु 

  • RBI द्वारा D-SIB पर वर्तमान अपडेट 31 मार्च, 2021 तक बैंकों से एकत्र किए गए आंकड़ों पर आधारित है।
  • RBI, D-SIB को उनके सिस्टमिक इंपोर्टेंस स्कोर (Systemic Importance Scores – SIS) के आधार पर उपयुक्त श्रेणी में रखता है।
  • RBI के ‘Framework for dealing with D-SIBs’ के तहत SBI को तीसरे स्थान पर रखा गया है। इस श्रेणी के तहत, बैंक को अतिरिक्त सामान्य इक्विटी टियर 1 (CET1) को जोखिम भारित आस्तियों (RWA) के 0.60 प्रतिशत पर बनाए रखना आवश्यक है।
  • ICICI बैंक और  HDFC बैंक को पहले स्थान पर रखा गया है। इस श्रेणी के तहत, बैंकों को अपने RWA के 0.20 प्रतिशत पर अतिरिक्त CET1 बनाए रखना आवश्यक है।

 D-SIB क्या है?

कुछ बैंक उनके आकार और परस्पर जुड़ाव  के कारण व्यवस्थित रूप से महत्वपूर्ण हो जाते हैं। ऐसे बैंकों को बैंकों के रूप में माना जाता है जो ‘विफल  होने के लिए बहुत बड़े हैं’ (Too Big To Fail – TBTF) के रूप में होते हैं। यह धारणा इन बैंकों में संकट के समय सरकार के समर्थन की अपेक्षा पैदा करती है। 

 

Categories:

Tags: , , , ,

« »

Advertisement

Comments