शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार (Shanti Swarup Bhatnagar Award) 2021 की घोषणा की गयी

वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR) के 80वें स्थापना दिवस के अवसर पर 11 वैज्ञानिकों को “शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार 2021” नामक भारत का सर्वोच्च विज्ञान पुरस्कार प्रदान किया गया।

मुख्य बिंदु 

  • शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार का नाम CSIR के संस्थापक और निदेशक स्वर्गीय डॉ. शांति स्वरूप भटनागर के नाम पर रखा गया है।
  • इस पुरस्कार को ‘विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिए शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार’ (Shanti Swarup Bhatnagar (SSB) Prize for Science and Technology) नाम दिया गया है।
  • यह हर साल वैज्ञानिकों को विज्ञान और प्रौद्योगिकी में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए दिया जाता है।

2021 में पुरस्कार के प्राप्तकर्ता

वर्ष 2021 में, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिए शांति स्वरूप भटनागर (SSB) पुरस्कार के प्राप्तकर्ता हैं:

  1. भारतीय विज्ञान संस्थान, बेंगलुरु से जैविक विज्ञान श्रेणी में अमित सिंह।
  2. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर से जैविक विज्ञान वर्ग में अरुण कुमार शुक्ला।
  3. रसायन विज्ञान श्रेणी में डॉ. कनिष्क विश्वास। वह बेंगलुरु में जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस साइंटिफिक रिसर्च में कार्यरत्त हैं।
  4. रसायन विज्ञान की श्रेणी में जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस्ड साइंटिफिक रिसर्च, बेंगलुरु से डॉ. टी. गोविंदराजू।
  5. पृथ्वी, वायुमंडल, महासागर और ग्रह विज्ञान में डॉ. बिनॉय कुमार।
  6. इंजीनियरिंग विज्ञान में डॉ. देबदीप मुखोपाध्याय।
  7. गणित विज्ञान में डॉ. अनीश घोष और डॉ. साकेत सौरभ।
  8. चिकित्सा विज्ञान में डॉ. जीमन पन्नियमकल।
  9. डॉ. रोहित श्रीवास्तव।
  10. भौतिक विज्ञान में डॉ कनक साहा।

पुरस्कार का उद्देश्य

यह पुरस्कार विज्ञान और प्रौद्योगिकी में उत्कृष्ट भारतीय कार्यों को मान्यता देने के लिए प्रदान किया जाता है।

शांति स्वरूप भटनागर पुरस्कार (Shanti Swarup Bhatnagar Award)

यह पुरस्कार प्रतिवर्ष उल्लेखनीय और उत्कृष्ट शोध के लिए दिए जाते हैं। इस पुरस्कार में 5,00,000 रुपये का पुरस्कार शामिल हैं। यह जैविक विज्ञान, रसायन विज्ञान, इंजीनियरिंग विज्ञान, पृथ्वी, वायुमंडल, महासागर और ग्रह विज्ञान, गणितीय विज्ञान, भौतिक विज्ञान और चिकित्सा विज्ञान की श्रेणियों में प्रदान किया जाता है।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments

  • Anuj Singh
    Reply

    Thanks