श्रीलंका में आपातकाल की घोषणा क्यों की गई है?

श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने देश में आपातकाल की स्थिति घोषित कर दी है जो देश के सुरक्षा बलों को व्यापक अधिकार देता है। यह घोषणा उस समय की गई जब देश के सैकड़ों नागरिकों ने श्रीलंका के सामने आ रहे आर्थिक संकट को लेकर गुस्से से उनके घर में घुसने की कोशिश की।

मुख्य बिंदु 

  • लागू किए गए सख्त कानून सेना को बिना किसी मुकदमे के लंबे समय तक किसी भी संदिग्ध को हिरासत में लेने और गिरफ्तार करने की शक्ति देते हैं।
  • देश के नागरिक विरोध कर रहे हैं और उनके इस्तीफे की मांग कर रहे हैं क्योंकि देश में उथल-पुथल का माहौल बन गया है।
  • राष्ट्र गंभीर आवश्यक वस्तुओं की कमी का सामना कर रहा है।
  • देश में राष्ट्रपति के खिलाफ लगातार हो रहे विरोध प्रदर्शन के बाद देश में रात के समय कर्फ्यू लगा दिया गया है।

आपातकाल की घोषणा क्यों की गई?

आपातकाल घोषित किया गया है ताकि देश में सार्वजनिक व्यवस्था को बनाए रखा जा सके और साथ ही समुदाय के लिए आवश्यक सेवाओं और आपूर्ति की सुरक्षा की जा सके।

देश की आर्थिक स्थिति

देश में महंगाई 18.7% पर पहुंच गई है। खाद्य कीमतों में 30.1% की वृद्धि हुई है। डीजल की किल्लत ने पूरे देश में कोहराम मचा दिया है। जनरेटर चलाने के लिए डीजल नहीं होने के कारण रोजाना 13 घंटे बिजली कटौती की जा रही है। देश के सरकारी अस्पताल भी जीवन रक्षक दवाओं की कमी का सामना कर रहे हैं। सरकार ने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से संपर्क किया है जबकि भारत और चीन से और कर्ज मांगा गया है।

देश की आर्थिक बदहाली के कारण

कोविड -19 महामारी के कारण श्रीलंका की आर्थिक स्थिति को झटका लगा है, जिससे देश की आय का प्रमुख स्रोत पर्यटन उद्योग को बहुत नुकसान हुआ है। कई अर्थशास्त्रियों का मानना ​​है कि सरकार के कुप्रबंधन और उधार के जमा होने से भी संकट बढ़ा है।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments