संवेदनशील कार्यों में लगे बैंक कर्मियों को मिलेगा आकस्मिक अवकाश

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के संशोधित जोखिम प्रबंधन दिशानिर्देशों के तहत, संवेदनशील पदों जैसे कि ट्रेजरी ऑपरेशन और करेंसी चेस्ट में काम करने वाले बैंकरों को प्रति वर्ष कम से कम 10 कार्य दिवसों का आकस्मिक अवकाश (surprise holiday) मिलेगा।

मुख्य बिंदु

  • यह एक विवेकपूर्ण परिचालन जोखिम प्रबंधन उपाय (prudent operational risk management measure) के रूप में किया जाएगा।
  • इन कर्मचारियों को बिना कोई पूर्व सूचना दिए अवकाश दिया जाएगा।इस प्रकार, आश्चर्य का तत्व बना रहेगा।
  • इन निर्देशों का पालन करने के लिए बैंकों को 6 महीने का समय दिया गया है।

संशोधित मानदंड क्या हैं?

  • संशोधित मानदंडों के तहत, बैंकों को यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि “अनिवार्य अवकाश” पर कर्मचारियों की उनके काम से संबंधित किसी भी भौतिक या आभासी संसाधनों तक पहुंच नहीं है।हालांकि, उन्हें आंतरिक या कॉर्पोरेट ईमेल उपलब्ध होगा।
  • बैंक “अनिवार्य अवकाश” आवश्यकताओं के तहत कवर किए जाने वाले संवेदनशील पदों की सूची भी तैयार करेंगे।
  • पर्यवेक्षी प्रक्रिया के तहत इस नीति के कार्यान्वयन की समीक्षा की जाएगी।
  • बैंक डीलिंग रूम, ट्रेजरी, उच्च मूल्य वाले ग्राहकों के लिए रिलेशनशिप मैनेजर और विशेष शाखाओं के प्रमुख जैसे महत्वपूर्ण और संवेदनशील पदों के लिए केवल “फिट और उचित” अधिकारियों का चयन करेंगे।
  • बैंकों को कर्मचारियों के लिए “अनिवार्य अवकाश” की नीति के साथ-साथ “स्टाफ रोटेशन” नीति बनाने के लिए भी कहा गया है।
  • आंतरिक लेखा परीक्षकों और समवर्ती लेखा परीक्षकों को भी इन नीतियों के कार्यान्वयन की जांच करने और उल्लंघनों को इंगित करने के लिए कहा गया है।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments