सड़क परिवहन मंत्रालय ने ‘गो इलेक्ट्रिक अभियान’ लांच किया

केंद्रीय सड़क, परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने 19 फरवरी, 2021 को ‘गो इलेक्ट्रिक अभियान’ लांच किया।

मुख्य बिंदु

  • इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग इन्फ्रास्ट्रक्चर के लाभों के संबंध में जागरूकता फैलाने के लिए यह अभियान शुरू किया गया था।
  • इस अभियान से पूरे भारत में ई-मोबिलिटी और इलेक्ट्रिक कुकिंग के बारे में जागरूकता बढ़ेगी।
  • गो इलेक्ट्रिक अभियान भारत का भविष्य है।यह देश में पर्यावरण के अनुकूल, लागत प्रभावी और स्वदेशी इलेक्ट्रिक उत्पादों को बढ़ावा देने में मदद करेगा।
  • इस अभियान को लांच करते हुए उर्जा मंत्री आर.के. सिंह ने यह भी कहा कि यह ऊर्जा परिवर्तन समय की आवश्यकता है ताकि आयातित जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता को कम किया जा सके।मंत्री ने लोगों से बिजली के उपकरणों को अपनाने का भी आग्रह किया।

‘गो इलेक्ट्रिक’ अभियान

आगामी वर्षों में भारत के जीवाश्म ईंधन आयात निर्भरता को कम करने में भारत की मदद करने के उद्देश्य से ‘गो इलेक्ट्रिक’ अभियान शुरू किया गया है। यह अभियान एक हरित और स्वच्छ भविष्य की दिशा में एक कदम है। इस अभियान का उद्देश्य राष्ट्रीय स्तर पर जागरूकता पैदा करना है। उम्मीद है कि इस अभियान से इलेक्ट्रिक वाहन निर्माताओं का विश्वास भी बढ़ेगा।

गो इलेक्ट्रिकअभियान का लोगो

गो इलेक्ट्रिक अभियान के लॉन्च में ‘गो इलेक्ट्रिक’ के लोगो को भी लॉन्च किया गया। इस अभियान के लिए लोगो में ई-गतिशीलता पारिस्थितिकी तंत्र के विकास को दर्शाया गया है।  इसके अलावा, उद्योग के खिलाड़ियों ने प्रदर्शनी का आयोजन किया, जिसमें विभिन्न इलेक्ट्रिक वाहन जैसे ई-बस, ई-कार, 2-व्हीलर्स, 3-व्हीलर्स प्रदर्शित किए गए।

भारत में इलेक्ट्रिक ईंधन

इलेक्ट्रिक ईंधन जीवाश्म ईंधन के लिए एक महत्वपूर्ण विकल्प है। क्योंकि यह जीवाश्म ईंधन के आयात पर भारत के आयात बिल को कम करने में मदद करेगा। भारत का आयात बिल 8 लाख करोड़ रुपये है। इसके अलावा, इलेक्ट्रिक ईंधन उत्सर्जन को कम करता है और जीवाश्म ईंधन की तुलना में इसकी लागत कम होती है।

Categories:

Tags: , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments