सरकार ने खाद्य तेल के आयात पर टैरिफ घटाया

केंद्र सरकार ने पाम तेल सहित खाद्य तेल के आयात के लिए शुल्क में 112 डॉलर प्रति टन की कमी की है। इस कदम से घरेलू कीमतों में कमी आएगी।

मुख्य बिंदु

  • केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) ने कच्चे पाम तेल के आयात शुल्क में 86 डॉलर प्रति टन की कटौती की है।
  • RBD और कच्चे पामोलिन पर आयात मूल्य में 112 अमेरिकी डॉलर प्रति टन की कमी की गयी है।
  • कच्चे सोयाबीन तेल का आधार आयात मूल्य 37 अमेरिकी डॉलर प्रति टन कम किया गया।

महत्व

इस कदम से घरेलू बाजार में खाद्य तेल की कीमतों को कम करने में मदद मिलेगी क्योंकि आयात शुल्क में कमी के साथ, आधार आयात मूल्य पर सीमा शुल्क भी कम हो जाएगा।

खाद्य तेलों का आयात

भारत में, घरेलू उत्पादन और खाद्य तेलों की खपत के बीच एक बड़ा अंतर है। इससे बड़े पैमाने पर आयात होता है। भारत की दो-तिहाई खाद्य तेल की मांग आयात के माध्यम से पूरी की जाती है। सॉल्वेंट एक्सट्रैक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के आंकड़ों के अनुसार, नवंबर 2020 से मई 2021 के दौरान खाद्य और अखाद्य तेलों का कुल आयात 9% बढ़कर 76,77,998 टन हो गया है। आयात में वृद्धि के साथ, खाद्य तेलों की खुदरा कीमतों में भी वृद्धि हुई है, जबकि घरेलू खाद्य तेल की कीमतों में पिछले एक साल में दो गुना वृद्धि हुई है।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments