साइबर सुरक्षा फर्म Sophos ने State of Ransomware 2021 रिपोर्ट जारी की

वैश्विक साइबर सुरक्षा फर्म, सोफोस (Sophos) ने “द स्टेट ऑफ रैंसमवेयर 2021 रिपोर्ट”  (State of Ransomware 2021) प्रकाशित की। इस रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 12 महीनों में 68% भारतीय संगठन रैंसमवेयर से प्रभावित हुए थे।

मुख्य निष्कर्ष

  • रैंसमवेयर हमलों के मामले में भारत सबसे अधिक प्रभावित देशों में से एक है।
  • रैंसमवेयर हमलों के लिए शीर्ष 30 देशों की सूची में भारत शीर्ष पर है।
  • पिछले 12 महीनों में 68 फीसदी भारतीय संगठन रैंसमवेयर की चपेट में आ गए। हालांकि, यह संख्या 2020 की रिपोर्ट में बताये गये 82 प्रतिशत से कम है।
  • 72 प्रतिशत भारतीय संगठनों ने माना, सबसे महत्वपूर्ण रैंसमवेयर हमले में डेटा एन्क्रिप्ट किया गया था।
  • हालाँकि हमलों में गिरावट आई है। कुछ जगहों पर हमलावर के व्यवहार में बदलाव आया है। सोफोस में, यह बताया गया था, हमलावर अधिक लक्षित हमलों पर स्विच कर रहे थे जिसमें ह्यूमन हैंड्स-ऑन कीबोर्ड हैकिंग शामिल है ताकि संगठन की सुरक्षा को बायपास किया जा सके।
  • 67 प्रतिशत भारतीय संगठन, जिनका डेटा एन्क्रिप्ट किया गया था, ने 32 प्रतिशत के वैश्विक औसत के विपरीत फिरौती का भुगतान किया।
  • 86 प्रतिशत भारतीय संगठनों का मानना ​​है कि साइबर हमले अब इतने जटिल हैं कि उनकी अपनी आईटी टीम के लिए इन्हें संभालना मुश्किल हो गया है।

हमले का प्रभाव

रैंसमवेयर हमलों के महत्वपूर्ण वित्तीय प्रभाव होते हैं। इस सर्वेक्षण पर प्रकाश डाला गया, रैंसमवेयर हमले से वसूली की औसत कुल लागत एक वर्ष में दोगुने से अधिक थी। यह दुनिया भर में 2020 में $ 7,61,106 से बढ़कर 2021 में $ 1.85 मिलियन हो गयी है। हालांकि, भारत में, वसूली लागत एक वर्ष में तीन गुना, 2020 में $1.1 मिलियन से 2021 में $3.38 हो गई है।

Categories:

Tags: , , , ,

« »

Advertisement

Comments