हड़प्पा संस्कृति पर दुनिया का सबसे बड़ा संग्रहालय राखीगढ़ी (Rakhigarhi) में बनाया जाएगा

हड़प्पा संस्कृति पर दुनिया का सबसे बड़ा संग्रहालय वर्तमान में हरियाणा के राखीगढ़ी में स्थापित किया जा रहा है।

मुख्य बिंदु

  • राखीगढ़ी में हड़प्पा संस्कृति पर संग्रहालय सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित लगभग 5,000 साल पुरानी कलाकृतियों को प्रदर्शित करेगा।
  • यह विश्व स्तरीय संग्रहालय राखीगढ़ी के इतिहास को दर्शाने वाली तस्वीरों को प्रदर्शित करेगा।
  • यह संग्रहालय, जो वर्तमान में निर्माणाधीन है, राखीगढ़ी को अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर पहचान देगा और स्थानीय समुदायों के लिए रोजगार के अवसर बढ़ाएगा।
  • बच्चों को मनोरंजक तरीके से इतिहास से अवगत कराने के लिए संग्रहालय में विशेष जोन बनाया जा रहा है।
  • संग्रहालय में एक ओपन-एयर थिएटर और एक पुस्तकालय भी होगा।

राखीगढ़ी (Rakhigarhi)

राखीगढ़ी गांव 2600 से 1900 ईसा पूर्व तक सिंधु घाटी सभ्यता का हिस्सा था। दो गाँव राखी खास और राखी सहपुर में सिंधु घाटी स्थल के पुरातत्व अवशेष हैं। 1969 में पहली बार इसकी खुदाई की गई थी। यह वर्तमान में सिंधु घाटी सभ्यता की सबसे बड़ी बस्ती है। 1998 से, इस साइट पर 56 कंकाल खोजे गए हैं। इनमें दो महिलाएं टीले नंबर 7 में मिलीं। इनकी उम्र 7,000 साल आंकी गई है। साइट में शैल चूड़ियों की उपस्थिति अफगानिस्तान, बलूचिस्तान, गुजरात और राजस्थान जैसे दूर के स्थानों के लिए व्यापार संबंधों का प्रमाण प्रदान करती है। इस साइट में आभूषण व्यापार सबसे प्रमुख है। इस सभ्यता के लोग मोतियों की माला बनाने के लिए तांबे, कारेलियन, सुलेमानी और सोने जैसी कीमती धातुओं को पिघलाने के लिए जाने जाते हैं।

5 प्रतिष्ठित स्थलों का विकास

केंद्रीय बजट 2020 के दौरान, केंद्र सरकार ने पांच प्रतिष्ठित स्थलों – राखीगढ़ी (हरियाणा), हस्तिनापुर (उत्तर प्रदेश), शिवसागर (असम), धोलावीरा (गुजरात) और आदिचनल्लूर (तमिलनाडु) के विकास की घोषणा की। इन स्थलों पर 2,500 करोड़ रुपये के कुल परिव्यय से संग्रहालय विकसित किए जाएंगे।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments