हाइपरलूप प्रौद्योगिकी के लिए उत्कृष्टता केंद्र (Centre of Excellence for Hyperloop Technology) बनाया जाएगा

रेल मंत्रालय ने कहा कि वह एक स्वदेशी हाइपरलूप प्रणाली विकसित करने के लिए भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास (IIT मद्रास) के साथ सहयोग करेगा। रेल मंत्रालय IIT मद्रास में हाइपरलूप टेक्नोलॉजीज के लिए उत्कृष्टता केंद्र स्थापित करने में भी मदद करेगा। इस केंद्र का निर्माण IIT मद्रास द्वारा अपने मौजूदा रेलवे अनुसंधान केंद्र (CRR) के माध्यम से किया जाएगा। यह परियोजना ‘मेक इन इंडिया’ और ‘आत्मनिर्भर भारत’ पहल की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

IIT मद्रास और रेल मंत्रालय की क्या भूमिका होगी?

इस परियोजना के लिए, IIT मद्रास को भारतीय रेलवे से 8.34 करोड़ रुपये का वित्त पोषण प्राप्त होगा। वित्तीय सहायता के साथ-साथ, भारतीय रेलवे सुरक्षा मानकों के निर्माण में भी मदद करेगा। साथ ही, रेलवे की विद्युत परीक्षण सुविधाओं तक पहुंच प्रदान की जाएगी।

IIT मद्रास हाइपरलूप सिस्टम के लिए पॉड, ट्यूब और ट्रैक के लिए डिजाइन प्रलेखन देने के लिए जिम्मेदार होगा। पॉड प्रोटोटाइप और वैक्यूम ट्यूब के लिए परीक्षण और प्रदर्शन डेटा वितरण भी IIT मद्रास द्वारा किया जाएगा। 

हाइपरलूप क्या है?

हाइपरलूप एक नई प्रकार की परिवहन तकनीक है जो लोगों और सामानों के परिवहन के लिए कम दबाव वाली ट्यूबों या सुरंगों में चुंबकीय उत्तोलन (magnetic levitation) का उपयोग करती है। 2020 में, यूएस-बेस्ड कंपनी “वर्जिन हाइपरलूप” ने पहली बार यात्रियों के साथ हाइपरलूप प्रणाली का परीक्षण किया।

हाइपरलूप और मानक रेल के बीच दो प्रमुख अंतर हैं। एक यात्री पॉड्स में बैठते हैं जो ट्यूब या सुरंगों के माध्यम से यात्रा करते हैं जिसमें घर्षण को कम करने के लिए अधिकांश हवा को हटा दिया जाता है। दूसरा अंतर यह है कि पहियों का उपयोग करने के बजाय, पॉड्स एयर स्की पर तैरेंगे या चुंबकीय उत्तोलन का उपयोग करेंगे।

हाइपरलूप नियमित हाई-स्पीड रेल की तुलना में निर्माण में तेज और कम खर्चीला है। ऊर्जा की आवश्यकता भी कम होती है।

‘आविष्कार हाइपरलूप’ क्या है?

2017 में, IIT मद्रास के छात्रों द्वारा ‘अविष्कार हाइपरलूप’ नाम की एक टीम बनाई गई थी। यह हाइपरलूप आधारित परिवहन प्रणाली के विकास पर काम कर रहा है। 2019 में स्पेसएक्स हाइपरलूप पॉड प्रतियोगिता में दुनिया भर में शीर्ष 10 में पहुंचने वाली यह एकमात्र एशियाई टीम थी। यूरोपीय हाइपरलूप वीक-2021 में, टीम ने मोस्ट स्केलेबल डिज़ाइन का पुरस्कार जीता।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments