हेनले पासपोर्ट सूचकांक (Henley Passport Index) 2021 : मुख्य बिंदु

हेनले पासपोर्ट सूचकांक 2021 हाल ही में जारी किया गया था जिसमें 2020 के सूचकांक की तुलना में भारत की रैंक में 6 स्थान की गिरावट आई है।

मुख्य बिंदु

  • हेनले पासपोर्ट इंडेक्स दुनिया के सबसे अधिक यात्रा-अनुकूल पासपोर्ट सूचीबद्ध करता है।
  • इस वर्ष भारत को 90वें स्थान पर रखा गया है।
  • यह सूचकांक ऐसे समय में जारी किया गया है जब देश 2020 में कोविड-19 महामारी की शुरुआत के दो साल बाद अंतरराष्ट्रीय आगंतुकों के लिए यात्रा नियमों में ढील दे रहे हैं।

यह सूचकांक देशों को कैसे रैंक करता है?

हेनले पासपोर्ट इंडेक्स देशों के पासपोर्टों को उन गंतव्यों की संख्या के आधार पर रैंक करता है जहां उनके धारक पहले से वीजा प्राप्त किए बिना जा सकते हैं। ‘इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन (IATA) द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों का विश्लेषण करके रैंकिंग तय की जाती है।

देशों की रैंकिंग

  • इस साल जापान और सिंगापुर ने सूची में शीर्ष स्थान हासिल किया है क्योंकि उनके पासपोर्ट धारकों को 192 देशों में वीजा-मुक्त यात्रा करने की अनुमति है।
  • जापान ने लगातार तीसरे वर्ष शीर्ष स्थान हासिल किया।
  • दूसरे स्थान पर दक्षिण कोरिया और जर्मनी रहे।
  • अफगानिस्तान, सीरिया, इराक, यमन और पाकिस्तान सबसे कम शक्तिशाली देशों में से हैं।

भारत की रैंक

2020 में भारत को 84वें स्थान पर रखा गया था लेकिन 2021 में इसकी स्थिति गिरकर 90वें स्थान पर आ गई है। भारत के पासपोर्ट धारकों को 58 देशों में वीजा-मुक्त यात्रा करने की अनुमति है। भारत इस रैंक को ताजिकिस्तान और बुर्किना फासो के साथ साझा करता है।

यह रिपोर्ट कौन तैयार करता है?

हेनले पासपोर्ट इंडेक्स लंदन स्थित हेनले एंड पार्टनर्स द्वारा तैयार किया गया है, जो एक वैश्विक नागरिकता और निवास सलाहकार फर्म है। इसमें 199 पासपोर्ट और 227 गंतव्य शामिल हैं।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments