14वां भारत-जापान वार्षिक शिखर सम्मेलन नई दिल्ली में आयोजित किया जायेगा

14वां भारत-जापान वार्षिक शिखर सम्मेलन नई दिल्ली में आयोजित किया जायेगा। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के निमंत्रण पर, जापान के प्रधानमंत्री किशिदा फुमियो (Kishida Fumio) आज भारत-जापान वार्षिक शिखर सम्मेलन के लिए नई दिल्ली पहुंच रहे हैं। पिछला भारत-जापान वार्षिक शिखर सम्मेलन अक्टूबर 2018 में टोक्यो में हुआ था।

मुख्य बिंदु

गौरतलब है कि 14वां भारत जापान वार्षिक शिखर सम्‍मेलन पीएम मोदी और पीएम किशिदा की पहली मुलाकात होगी। भारत और जापान के बीच विशेष सामरिक और वैश्विक साझेदारी के दायरे में बहुआयामी सहयोग है। यह शिखर सम्मेलन दोनों पक्षों को विविध क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग की समीक्षा करने और उसे मजबूत करने का अवसर प्रदान करेगा। इस अवसर पर दोनों नेता आपसी हित के क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर  विचारों का आदान-प्रदान करेंगे ताकि भारत-प्रशांत क्षेत्र और उससे आगे शांति, स्थिरता और समृद्धि के लिए साझेदारी को आगे बढ़ाया जा सके। COVID-19 महामारी के कारण 2020 और 2021 में यह शिखर सम्मेलन आयोजित नहीं किया जा सका।

भारत-जापान

  • भारत और जापान सालाना 2 + 2 वार्ता का आयोजन करते हैं। अमेरिका के बाद जापान ऐसा दूसरा देश है जिसके साथ भारत का ऐसा संवाद प्रारूप है।
  • जापान को भारत पेट्रोलियम उत्पाद, रसायन आदि निर्यात करता है।
  • भारत जापान से परिवहन, मशीनरी, लोहा और इस्पात, इलेक्ट्रॉनिक सामान इत्यादि आयात करता है।
  • भारत में जापान का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश मुख्य रूप से विद्युत उपकरण, ऑटोमोबाइल, दूरसंचार, दवा क्षेत्र में है।
  • जापान ने दिल्ली-मुंबई औद्योगिक गलियारे में 90 बिलियन अमरीकी डालर का निवेश किया है। यह औद्योगिक पार्क, नए शहर, बंदरगाह और हवाई अड्डे स्थापित करेगा।
  • जापान भारत को परमाणु रिएक्टर और परमाणु तकनीक की आपूर्ति करता है।

Categories:

Tags: , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments