14 अक्टूबर: अंतर्राष्ट्रीय ई-कचरा दिवस (International E-Waste Day)

14 अक्टूबर को अंतर्राष्ट्रीय ई-कचरा दिवस मनाया जाता है। Waste Electrical and Electronic Forum (WEEF) द्वारा 2018 से यह दिवस मनाया जा रहा है।

मुख्य बिंदु 

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, पिछले पांच वर्षों में उत्पन्न ई-कचरे की मात्रा में 21% की वृद्धि हुई है। संयुक्त राष्ट्र भी कहता है कि ई-कचरे के 53.6 मिलियन टन दुनिया भर में व्यापक उत्पन्न कर रहे हैं। इसमें से केवल 17.4% का ही संग्रहण और पुनर्चक्रण किया जाता है। यह भी अनुमान है कि 2030 तक 74 मिलियन टन ई-कचरा उत्पन्न होगा।

प्रौद्योगिकी में तेजी से प्रगति, शहरीकरण प्रक्रिया और आर्थिक विकास ई-कचरे में तेजी से वृद्धि के प्रमुख कारण हैं।

महत्व

यह दिन रीसाइक्लिंग और ई-कचरे को कम करने के महत्व पर बल देता है। इस दिन को मनाना और ई-कचरे के खतरों के बारे में जागरूकता बढ़ाना महत्वपूर्ण है क्योंकि केवल 78 देशों में ही ई-कचरा प्रबंधन अच्छा है। विश्व की केवल 71% जनसंख्या ई-कचरा कानून के अंतर्गत आती है।

भारत

भारत ने 2019 में 3.2 मिलियन टन ई-कचरा उत्पन्न किया। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने 312 ई-कचरा पुनर्चक्रणकर्ताओं पंजीकृत किया है। 2016 में, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने ई-अपशिष्ट प्रबंधन नियम, 2016 को अधिसूचित किया। यह विस्तारित उत्पादक उत्तरदायित्व को लागू करता है। 

चीन के साथ भारत में उत्पन्न ई-कचरा का 38% हिस्सा है। पिछले तीन वर्षों में भारत में उत्पन्न होने वाले ई-कचरे में 43% की वृद्धि हुई है।

WEEE फोरम 

इसकी स्थापना 2002 में 6 देशों जैसे ऑस्ट्रिया, नीदरलैंड, बेल्जियम, नॉर्वे, स्विट्जरलैंड और स्वीडन के संगठनों द्वारा की गई थी। 

इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के खतरे

इलेक्ट्रॉनिक उपकरण में कैडमियम, लेड और बेरिलियम जैसे खतरनाक धातु संदूषक होते हैं। प्लास्टिक ई-कचरे का 30% हिस्सा है। लेड सभी इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में सबसे हानिकारक तत्व है।

Categories:

Tags: , , , ,

« »

Advertisement

Comments