14 अप्रैल को मनाया गया विश्व चगास दिवस (World Chagas Day)

विश्व चगास दिवस (World Chagas Day) प्रतिवर्ष 14 अप्रैल को मनाया जाता है। यह दिन इस जानलेवा बीमारी के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है जो पाचन और हृदय संबंधी समस्याओं का कारण बन सकती है।

मुख्य बिंदु 

  • इस बीमारी को अमेरिकन ट्रिपैनोसोमियासिस (American trypanosomiasis), साइलेंस्ड डिजीज (silenced disease) या साइलेंट डिजीज (silent disease) के नाम से भी जाना जाता है।
  • यह रोग ट्रिपैनोसोमा क्रिजू (Trypanosoma crizu) नामक परजीवी के कारण होता है।
  • ट्रायटोमाइन बग के माध्यम से, जिसे किसिंग बग के रूप में भी जाना जाता है, यह परजीवी मनुष्यों में फैलता है।
  • गरीब लोग जो ग्रामीण क्षेत्रों में खराब स्वच्छता की स्थिति में रहते हैं, वे इस बीमारी से सबसे अधिक प्रभावित होते हैं।
  • यह रोग मेक्सिको, मध्य अमेरिका और दक्षिण अमेरिका जैसे क्षेत्रों में लोगों को अधिक होता है।

दिन का इतिहास

14 अप्रैल, 2020 को, इस दिन को पहली बार बीमारी से पीड़ित लोगों के बारे में जागरूकता पैदा करने के उद्देश्य से मनाया गया था। इस दिन को मनाने के लिए 14 अप्रैल की तारीख को चुना गया था क्योंकि इसी तारीख को वर्ष 1990 में मानव में चगास रोग का पहला मामला सामने आया था।

यह रोग कैसे फैलता है?

यह रोग विभिन्न तरीकों से मनुष्यों में फैल सकता है जैसे कि कच्चा या आंशिक रूप से पका हुआ भोजन जो संक्रमित कीट के मल से दूषित हो गया है, परजीवी से संक्रमित जंगली जानवरों के संपर्क में आना, और एक संक्रमित व्यक्ति से रक्त आधान (blood transfusion) के दौरान भी यह रोग फ़ैल सकता है। 

एक बार जब कोई व्यक्ति इस बीमारी से संक्रमित हो जाता है, तो यह संक्रमित व्यक्ति को गंभीर पाचन और हृदय संबंधी परिवर्तनों के साथ-साथ ह्रदय की विफलता का सामना करना पड़ हो सकता है। 

Categories:

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments