14 वर्षीय दीक्षा शिंदे (Diksha Shinde) को NASA की का पैनलिस्ट चुना गया

दीक्षा शिंदे, जो औरंगाबाद में एक 14 वर्षीय लड़की है, को अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के Minority Serving Institution (MSI) फैलोशिप के वर्चुअल पैनल में पैनलिस्ट के रूप में चुना गया है।

मुख्य बिंदु 

  • उन्होंने ब्लैक होल पर एक सिद्धांत लिखा है। इसे नासा में पसंद किया गया और स्वीकार किया गया।
  • ‘We Live in Black Hole?’ पर उनका शोध पत्र मई 2021 में International Journal of Scientific and Engineering Research द्वारा स्वीकार किया गया था।
  • उन्होंने International Astronomical Search Collaboration द्वारा आयोजित अनुसंधान प्रतियोगिता जीती है।
  • उन्हें जून में 2021 MSI फैलोशिप वर्चुअल पैनल के लिए पैनलिस्ट के रूप में चुना गया है।
  • वह 18 साल की होने पर नासा में प्रशिक्षण लेंगी। वह एक सम्मेलन में भी भाग लेंगी जो अक्टूबर 2021 में आयोजित किया जाएगा। नासा उनका सारा खर्च वहन करेगी।

Minority Serving Institute (MSI)

MSI का उपयोग उन  विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के लिए किया जाता है जो अमेरिका की उच्च शिक्षा प्रणाली में अल्पसंख्यक समूहों से आने वाले छात्रों के महत्वपूर्ण प्रतिशत का नामांकन करते हैं।

Categories:

Tags: , , , , , ,

« »

Advertisement

Comments