16 सितंबर : विश्व ओजोन दिवस (World Ozone Day)

विश्व ओजोन दिवस या ओजोन परत के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस (International Day for preservation of Ozone Layer) 16 सितंबर, 2021 को दुनिया भर में मनाया गया।

मुख्य बिंदु 

यह दिन हर साल मनाया जाता है और एक ऐसे कारण के लिए समर्पित है जो ओजोन परत की सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण है।

इतिहास

  • मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल पर हस्ताक्षर करने के बाद 1994 में संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा विश्व ओजोन दिवस घोषित किया गया था ।
  • ओजोन परत को कम करने वाले पदार्थों पर मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल पर 1987 में लगभग हर देश द्वारा हस्ताक्षर किए गए थे।

महत्व

ओजोन परत के क्षरण के कारण यह दिन महत्वपूर्ण है। ओजोन गैस की नाजुक परत है जो लोगों को हानिकारक किरणों से बचाती है। लेकिन मानव गतिविधियाँ पृथ्वी के प्राकृतिक प्रतिमान के लिए खतरा बन गयी हैं। इस प्रकार, इस दिन को सभी मानव-नेतृत्व वाले ओजोन-क्षयकारी पदार्थों पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से मनाया जाता है।

भारत के प्रयास

पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने 2019 में “India Cooling Action Plan (ICAP)” लांच किया। इस कार्य योजना का उद्देश्य रेफ्रिजरेंट ट्रांजिशन को कम करने, कूलिंग डिमांड को कम करने और ऊर्जा दक्षता बढ़ाने की दिशा में एक एकीकृत दृष्टि प्रदान करना है।

मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल (Montreal Protocol)

यह देशों के लिए सभी ओजोन-क्षयकारी पदार्थों जैसे क्लोरोफ्लोरोकार्बन एरोसोल, हैलोन आदि के अस्तित्व पर अंकुश लगाने के लिए एक समझौता था, जिनका व्यापक रूप से शीतलन और प्रशीतन उद्देश्यों के लिए उपयोग किया जाता है। इन हानिकारक पदार्थों के उपयोग से अंटार्कटिका में ओजोन परत में छेद हो गया था। यह छेद 1970 में खोजा गया था और पिछले 20 वर्षों में तीव्र ग्लोबल वार्मिंग का कारण बना।

Categories:

Tags: , , , , ,

« »

Advertisement

Comments