21 मई : अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस (International Tea Day)

हर साल, 21 मई को, संयुक्त राष्ट्र अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस (International Tea Day) मनाता है। अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस मनाने का संकल्प 2019 में संयुक्त राष्ट्र खाद्य और कृषि संगठन (Food and Agriculture Organization – FAO) द्वारा अपनाया गया था ।

इतिहास

अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस 2005 से दुनिया के प्रमुख चाय उत्पादक देशों जैसे श्रीलंका, भारत, इंडोनेशिया, वियतनाम, बांग्लादेश, नेपाल, केन्या, मलेशिया, मलावी, युगांडा और तंजानिया में मनाया जा रहा है। इसका उद्देश्य वैश्विक चाय व्यापार के प्रभाव के बारे में नागरिकों, सरकारों का ध्यान आकर्षित करना है।

उद्देश्य

इस दिन का मुख्य लक्ष्य चाय के सतत उत्पादन को बढ़ावा देना और गरीबी और भूख से लड़ने के लिए जागरूकता बढ़ाना है।

चाय पर अंतरसरकारी समूह (Intergovernmental Group on Tea)

खाद्य और कृषि संगठन के तहत संचालित चाय के अंतर सरकारी समूह ने 2015 में अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस की अवधारणा का प्रस्ताव रखा था।

सतत विकास लक्ष्य (Sustainable Development Goals – SDG)

चाय उत्पादन निम्नलिखित लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद करता है :

  • लक्ष्य 1: गरीबी कम करना
  • लक्ष्य 2: भूख से लड़ना
  • लक्ष्य 5: महिला सशक्तिकरण
  • लक्ष्य 15: स्थलीय पारिस्थितिक तंत्र का सतत उपयोग

महत्व

चाय उत्पादन जलवायु परिवर्तन के प्रति संवेदनशील है। चाय का उत्पादन केवल कृषि-पारिस्थितिक परिस्थितियों में ही किया जा सकता है। बहुत सीमित देश हैं जो चाय का उत्पादन करते हैं।

इसलिए, चाय उत्पादक देशों को अपने चाय उत्पादन के साथ जलवायु चुनौतियों को एकीकृत करना चाहिए। यह अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य है।

भारत

भारत चीन के बाद दूसरा सबसे बड़ा चाय उत्पादक देश है। साथ ही, भारत दुनिया में चाय का सबसे बड़ा उपभोक्ता है। भारत वैश्विक चाय उत्पादन का लगभग 30% खपत करता है।

आदर्श वाक्य

अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस आदर्श वाक्य पर मनाया जाता है, “Harnessing Benefits for all From Field to Cup”। यह इस दिवस की थीम नहीं है। यह वह आदर्श वाक्य है जिसके तहत हर साल यह दिवस मनाया जाता है।

Categories:

Tags: , , , ,

« »

Advertisement

Comments